फेसबुक सीईओ मार्क जकरबर्ग डेटा लीक मामले में अमेरिकी संसद में पेश हुए. 44 सांसदों के बीच सवाल-जवाब के दौर में कई तल्ख सवाल पूछे गए. अमेरिकी सांसद एक के बाद एक चकरबर्ग से सवाल पूछते जा रहे थे. इस दौरान वह कई बार असहज नजर आए तो कुछ सवालों का उन्होंने यह कहते हुए जवाब नहीं दिया कि इसके बारे में अपनी टीम से बात करके बता पाएंगे.

> जकरबर्ग से पूछा गया कि क्या आपके पास इस बात का कोई डाटा या जानकारी है कि फेसबुक पर लॉग-इन करने वाला यूजर प्राइवेसी पॉलिसी को पूरा पढ़ता है? अगर पढ़ता भी है तो कितने यूजर्स ऐसे हैं जो इसे पूरा पढ़ते हैं? इसके जवाब में जकरबर्ग असहज नजर आए और उन्होंने कहा कि इसकी जानकारी उनके पास नहीं है. हालांकि, ज्यादातर लोग प्राइवेसी पॉलिसी को पूरा नहीं पढ़ते हैं.

> फेसबुक ने 87 मिलियन लोगों को नोटिफिकेशन भेजना शुरू किया. क्या आप बता सकते हैं इसमें कितने स्टेट के लोग शामिल हैं? डेटा डिलीत होने में कितना समय लगेगा. ऐसी स्थिति में क्या कॉल और मैसेज भी रिकॉर्ड किए गए हैं? इसके जवाब में भी जकरबर्ग पूरी तरह कॉन्फिडेंस में नहीं दिखे. उन्होंने कहा कि उन्हें इस बारे में जानकारी नहीं है. डेटा डिलीट होने में कितना समय लगेगा, इसके बारे में मेरे पास अभी जवाब नहीं है.

> फेसबुक पर बग बाउंटी को बढ़ावा दिया गया है. बग बाउंटी प्रोग्राम को समस्याओं के समधान के नजरिए से आप कैसे देखते हैं? इसके जवाब में जकरबर्ग बैकफुट पर ही दिखे. उन्होंने कहा, मैं आपका सवाल नहीं समझ पा रहा है. मेरी टीम बाद में इसका जवाब आपको दे देगी.

> क्या रूस और चीन की सरकार के पास डेटा है? इसके जवाब में जकरबर्ग ने कहा, कई तरह के ऐप्स जुड़े हुए हैं. इन ऐप्स की जांच की जा रही है. हालांकि, हम यह नहीं कह सकते कि किसके पास कितना डेटा है.

> फेसबुक यूजर्स सोचते हैं कि आप उनकी ब्राउजिंग हिस्ट्री को ट्रैक करते हैं. इस तरह के डेटा का आप क्या करते हैं? जकरबर्ग ने इसके जवाब में कहा कि मैं इसे ठीक से समझ नहीं पा रहा हूं.