कैंब्रिज एनालिटिका डाटा लीक मामला सामने आने के बाद से सभी अपने डाटा को लेकर चिंतित हैं. 87 मिलियन यूजर्स वाला ये प्लेटफॉर्म संदेहास्पद हो गया है. फेसबुक के अनुसार, 5,62,455 भारतीयों का भी डाटा लीक हुआ था. इसे देखते हुए उन्हें अलर्ट भेजा गया.

फेसबकु ने अपनी सिक्युरिटी में भी अमूलचूल परिवर्तन किया है. अब वह यूजर्स को न्यूज फीड के टॉप पर इस्तेमाल किए जा रहे सभी ऐप की जानकारी देगा. इसके साथ ही यह भी बताएगा कि इन ऐप्स के साथ कौनसी जानकारी साझा की गई है.

बताया जा रहा है कि फेसबुक यूजर्स के डाटा को लेकर अलर्ट है. अब सभी फेसबुक यूजर्स के पास एक लिंक होगा. इससे वे उन सभी ऐप्स को डिलीट कर सकते हैं, जिससे उन्हें अपनी जानकारी के लीक होने का डर हो. यह नहीं. फेसबुक अपने सभी यूजर्स के साथ एक लिंक साझा करेगा, जिससे उन्हें यूज किए जा रहे एप्लीकेशंस की जानकारी मिलेगी.

फेसुबक ने बयान जारी करते हुए कहा है कि डाटा ब्रीच का सबसे ज्यादा शिकार अमेरिका के लोग हुए हैं, जिनकी संख्या 70 मिलियन है. इसके बाद फिलिपिंस, इंडोनेशया और यूनाइटेड किंगडम जैसे देश आते हैं.