नई दिल्‍ली: देश के सबसे बड़े मेडिकल संस्‍थान ऑल इंडिया इंस्‍टीट्यूट्स ऑफ मेडिकल साइंसेज (एम्‍स) में एक फर्जी डॉक्‍टर पकड़ा गया है. दरअसल, हाल ही में एम्‍स एक अधिकारियों को एक पत्र ने परेशान कर दिया, जब रेजिडेंट डॉक्‍टर्स एसोसिएशन (आरडीए) ने कैम्‍पस में एक फर्जी जूनियर डॉक्‍टर के होने के बारे में अपनी चिंता जताई. एम्‍स के परेशान डॉक्‍टरों ने फर्जी डॉक्‍टर का ऑनलाइन फोटो जारी किया. इसके बाद अस्‍पताल की सिक्‍युरिटी टीम ने इस फर्जी डॉक्‍टर को पकड़ लिया. उसकी पहचान अदनान खुर्रम के रूप में हुई है और वह बिहार का रहने वाला है. सिक्‍युरिटी टीम ने शनिवार को आरोपी फर्जी डॉक्‍टर को पुलिस के हवाले कर दिया. इससे पहले बीते फरवरी माह में एक फर्जी डॉक्‍टर मिला था. डॉक्‍टरों ने देश के सबसे बड़े मेडिकल संस्‍थान में फर्जी डॉक्‍टरों के मिलने पर चिंता जताई है.

दिल्‍ली पुलिस ने जब इस 19 साल के स्‍मार्ट फर्जी डॉक्‍टर अदनान खुर्रम को पकड़ा तो उसके मेडिसिन और एम्‍स के डॉक्‍टरों और विभागों के प्रमुखों की जानकारी को देखकर हैरान रह गई. यह फर्जी डॉक्‍टर तब पकड़ा गया जब वह एम्‍स के डॉक्‍टरों की आयोजित मैराथॉन में शामिल हो रहा था. संदेह होने पर डॉक्‍टरों ने उसका आइडेंटिटी कार्ड मांगा, तो वह कोई संतोषजनक जवाब नहीं दे पाया.

स्‍टेथोस्‍कोप डाले हुए फोटो
आरोपी अदनान खुर्रम ने कई फोटोग्राफ सोशल मीडिया में अपलोड किए हैं. इन फोटोज में वह डॉक्‍टर का कोट पहने हुए है और गले में स्‍टेथोस्‍कोप डाले हुए है.

बिहार का है रहने वाला फर्जी डॉक्‍टर
फर्जी डॉक्‍टर से एक आइडेंटिटी कार्ड मिला है. इससे पता चला कि वह पूर्वी चंपारन जिले के बरादी बैरिया का रहने वाला है. आरोपी खुर्रम के पास एम्‍स की एक बुकलेट भी मिली है, जो सिर्फ एम्‍स के डॉक्‍टर्स के पास ही रहती है. इसमें उसने अपना नाम लिख रखा है.

एम्‍स की इवेंट्स में शामिल होता था
वह एम्‍स में होने वाली अलग-अलग राजनीतिक और मेडिकल इवेंट में शामिल होने के लिए रेजिडेंट डॉक्‍टर्स एसोसिएशन (आरडीए) के प्‍लेटफॉर्म का उपयोग करता था.

संदेह होने पर पता चला
एम्‍स के रेसिडेंट एसोसिएशन के वाइस प्रेसिडेंट डॉ. अभिषेक सिंह ने बताया कि हमें आरोपी पर शक हुआ तो हमने पता किया तो सामने आया कि वह हमारे डिपार्टमेंट का नहीं है. एम्‍स में कम से कम 2000 डॉक्‍टर्स हैं और यह बहुत मुश्‍किल होता है कि हर किसी को व्‍यक्तिगत रूप से जाना जाए. वह कैसे भी करके अपनी फर्जी गतिविधियां चलाता यह कहकर कि वह आरडीए से संबंधित है.

पकड़े जाने पर बोला- मैं डॉक्‍टर नहीं
जब आरोपी अदनान खुर्रम को पकड़ा गया तो उसने कहा कि वह एम्‍स का न तो डॉक्‍टर और यहां तक कि वह मेडिकल स्‍टूडेंट भी नहीं है. उसके पास से बिहार का आधार कार्ड मिला है.पुलिस ने खुर्रम के खिलाफ आईपीसी की धारा 419 और 468 के तहत मामला दर्ज किया है.

डॉक्‍टरों की बढ़ी चिंता
एम्‍स के डॉक्‍टरों ने देश के सबसे बड़े मेडिकल इंस्‍टीट्यूट की सुरक्षा को लेकर चिंता जताई है. इसी साल एम्‍स ने मैन सर्जिकल इमरजेंसी में एक फर्जी डॉक्‍टर होने की एफआईआर दर्ज कराई थी.