नई दिल्ली: पिछले हफ्ते शुक्रवार को जीएसटी परिषद की बैठक में होटल और रेस्टोरेंट्स को लेकर कम की गई जीएसटी की दरें बुधवार से लागू हो गईं हैं. अब से आपको एसी या नॉन एसी होटल या रेस्टोरेंट में सिर्फ 5 फीसदी टैक्स चुकाना होगा. पहले नॉन एसी रेस्टोरेंट पर ये दर 12 फीसदी और एसी रेस्टोरेंट पर 18 फीसदी थी.

फाइव स्टार होटलों में देना होगा 18 फीसदी टैक्स
5 स्टार होटलों में जहां कमरे का किराया 7500 हजार रुपए या इससे अधिक है वहां अब 18 फीसदी जीएसटी लगेगा. पहले ये दर 28 फीसदी थी. इन्हें इनपुट टैक्स क्रेडिट भी मिलेगा.

यह भी पढ़ें: दुकानदारों ने निकाला जीएसटी का तोड़, बेच रहे हैं एक-एक पैर के जूते

नाखुश हैं होटल और रेस्टोरेंट मालिक
सरकार के इस फैसले से होटल और रेस्टोरेंट्स मालिकों में रोष है. दरअसल उनका कहना है कि सरकार ने बिल के लिए जीएसटी की दर तो घटा दी लेकिन जीएसटी आने के बाद कच्चे माल की कीमत और संचालन का खर्च बढ़ गया है. साथ ही उन्हें इनपुट टैक्स क्रेडिट का फायदा भी नहीं मिल पाने की वजह से नाराजगी है.

ग्राहकों को कम फायदा होने की उम्मीद
फेडरेशन ऑफ होटल एंड रेस्टोरेंट एसोसिएशन ऑफ इंडिया के पूर्व प्रेसीडेंट कमलेश बारोट ने इस फैसले से पर कहा था कि ग्राहकों को 2 से 3 फीसदी ही सस्ता खाना मिलेगा. उनके मुताबिक सरकार ने रेस्टोरेंट पर जीएसटी 18 से घटाकर 5 फीसदी किया है. मतलब 13 फीसदी की कटौती हुई है लेकिन कच्चे माल और दूसरे खर्च के कारण होटल वालों को दाम में 10 फीसदी की बढ़ोतरी करनी होगी. इस कारण ग्राहक का बिल सिर्फ 3 फीसदी ही सस्ता होने की उम्मीद है.