मानेसर: हरियाणा में राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) के एक पूर्व कमांडो ने पैसों के लेनदेन को लेकर हुए विवाद में एक सेवानिवृत्त सैनिक और गांव के सरपंच की गोली मारकर हत्या कर दी. पुलिस ने गुरुवार को यह कहा. इस मामले में दो लोगों को हिरासत में ले लिया गया है. सुंदर फौजी ने मानेसर के पास स्थित कसान गांव के सरपंच बहादुर चौहान को आधी दर्जन गोलियां मार दी.

वरिष्ठ पुलिस अधिकारी रविंद्र कुमार ने बताया कि घटना दिल्ली-जयपुर-मुंबई राजमार्ग के समीप स्थित चौहान के कार्यालय व आवास की है. उन्होंने कहा कि दोनों के बीच पैसों को लेकर कुछ विवाद था. दोनों ही संपत्ति व्यापार में शामिल थे. रविंद्र कुमार ने कहा कि चौहान ने एक संपत्ति सौदे से हुई कमाई में से फौजी को हिस्सा देने से मना कर दिया था.

रविंद्र कुमार ने कहा कि फौजी ने हत्या के बाद बुधवार रात को मानेसर पुलिस थाने में आत्मसमर्पण कर दिया था. उन्होंने कहा कि घायल शख्स को तुरंत अस्पताल में भर्ती कराया गया लेकिन चोट गंभीर होने की वजह से उसकी मौत हो गई. पुलिस ने चौहान की हत्या के लिए सुंदर फौजी और शिक्षक यशपाल मास्टर को हिरासत में ले लिया है. पुलिस रामपाल नाम के तीसरे आरोपी की तलाश में जुटी है. (इनपुट-एजेंसी)