पणजी. गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर ने मंगलवार को बाल दिवस कार्यक्रम में अपने युवा समय में ‘वयस्क फिल्म’ देखने के अनुभव को साझा किया. पर्रिकर स्कूली बच्चों के साथ बातचीत कर रहे थे. इस दौरान एक छात्र ने पूछा कि पूर्व रक्षामंत्री अपने युवा काल के दौरान किस तरह की फिल्में देखते थे.

इस पर पर्रिकर ने जवाब दिया, ‘हम सिर्फ फिल्में नहीं देखते थे, हमने उस काल की वयस्क फिल्म भी देखीं है.’ उन्होंने कहा, ‘आज के समय में आप अब बहुत सी चीजें टीवी पर देख रहे हैं, जो पुराने समय में वयस्क फिल्म में दिखाया जाता था.’

पर्रिकर ने कहा, ‘एक लोकप्रिय वयस्क फिल्म थी. मैं उस समय वयस्क था. मैं व मेरा भाई इसे देखने गए थे. इंटरवल के दौरान, जब लाइट जली तो मैंने एहसास किया कि मेरा पड़ोसी मेरे बगल में बैठा है. यह पड़ोसी अक्सर मेरी मां के साथ शाम को बात करता था. मैंने खुद से कहा, हम मारे गए.’

मुख्यमंत्री ने कहा कि वह और उनका भाई अवधूत फिल्म बीच ही में छोड़कर सिनेमा हाल से भागे. घर जाते समय उन्होंने संकट से निपटने के लिए पहले से ही योजना बना ली थी. उन्होंने कहा, ‘जब हम घर पहुंचे तो मैंने अपनी मां से कहा कि हम फिल्म देखने गए थे और हम नहीं जानते थे कि फिल्म अश्लील है..हमने फिल्म बीच में ही छोड़ दी. मैंने बहुत ही सहज रूप से उन्हें बताया कि हमारे पड़ोसी भी वहां थे और मैं चुप हो गया.’