नई दिल्ली। राष्ट्रीय साइबर सुरक्षा संयोजक गुलशन राय ने कहा है कि रक्षा और गृह मंत्रालय सहित किसी भी सरकारी वेबसाइट को हैक नहीं किया गया है, इनमें सिर्फ कुछ हार्डवेयर से संबंधित समस्या आई है. वेबसाइटों में आ रही परेशानी पर स्थिति साफ करते हुए राय ने आज यहां कहा कि ये दोपहर से बंद है. स्टोरेज क्षेत्र नेटवर्किंग प्रणाली की विफलता की वजह से इन वेबसाइटों में समस्या आ रही है.

1998 से साइबर सुरक्षा के क्षेत्र में काम कर रहे राय ने कहा कि इस समस्या को दूर किया जा रहा है. यह सिर्फ हार्डवेयर के फेल होने का मामला है. साइबर सुरक्षा इकाई के प्रमुख ने कहा कि न तो हैकिंग हुई है न ही यह साइबर हमला है. राय इससे पिछले कंप्यूटर एमरजेंसी रेस्पांस टीम के प्रमुख रह चुके हैं. उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय सूचना केंद्र द्वारा स्थापित करीब दर्जन भर सरकारी वेबसाइटें इस गड़बड़ी से प्रभावित हुई हैं. इनमें रक्षा, गृह, विधि और श्रम विभाग की वेबसाइटें शामिल हैं. राय ने बताया कि हार्डवेयर को बदला जा रहा है. जल्द ही ये वेबसाइटें शुरू हो जाएंगी.

इससे पहले रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने ट्वीट किया था. रक्षा विभाग की वेबसाइट http://mod.nic.in के हैक होने के बाद कार्रवाई की जा रही है. वेबसाइट को जल्द बहाल किया जाएगा. यह कहने की जरूरत नहीं है कि भविष्य में इस तरह की घटना को रोकने के सभी संभावित उपाय किए जाएंगे.

हैकिंग की आई थी खबर

बता दें कि इससे पहले खबर आई थी कि रक्षा मंत्रालय की वेबसाइट हैक हो गई है. अंदेशा जताया गया कि चीन के हैकरों ने इस काम को अंजाम दिया. साइट खोलने पर होमपेज पर चीनी शब्द लिखे नजर आ रहे थे. कुछ देर बाद में होमपेज पर ERROR लिखा आ रहा था. अंत में ये साइट खुल ही नहीं रही थी. इसके कुछ समय बाद गृह मंत्रालय की वेबसाइट भी डाउन हो गई. NIC ने भी कहा था कि वेबसाइट हैक नहीं हुई है बल्कि तकनीकी कारणों से बंद हुई.