अहमदाबाद| गुजरात विधानसभा चुनाव के पहले चरण में सत्तारूढ़ बीजेपी और कांग्रेस के बीच करीबी मुकाबला होने की संभावना है. इस चरण के लिए गुरुवार शाम प्रचार अभियान खत्म हो जायेगा. कांग्रेस में जमीनी स्तर पर चुनाव प्रबंधन का काम देख रहे नेताओं के चुनाव पूर्व अनुमान में पिछले विधानसभा चुनाव की तुलना में पार्टी के पास इस बार अधिक सीटें जीतने का अच्छा मौका है. वर्ष 2012 में हुए चुनाव में विधानसभा की 182 सीटों में से कांग्रेस को 61 सीटें मिली थी. बीजेपी को 115 सीटों पर जीत हासिल हुई थी.

गुजरात चुनावः वडगाम में जिग्नेश मेवानी और बीजेपी उम्मीदवार के बीच है फाइट

गुजरात चुनावः वडगाम में जिग्नेश मेवानी और बीजेपी उम्मीदवार के बीच है फाइट

हालांकि बीजेपी ने कांग्रेस के इस अनुमान को खारिज किया है और कहा है कि पार्टी ज्यादा मजबूती के साथ राज्य की सत्ता में फिर से आयेगी. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जोरदार ढंग से पार्टी के लिए प्रचार किया और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने भी इसमे अहम भूमिका निभाई है.

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने ऐसे समय में पार्टी के प्रचार का नेतृत्व किया है जब कांग्रेस पिछले 22 वर्षों से इस पश्चिमी राज्य की सत्ता से बाहर है. पहले चरण का मतदान नौ दिसम्बर को होगा और इस चरण में सौराष्ट्र और दक्षिण गुजरात की 89 विधानसभा सीटों पर वोट डाले जायेंगे. इस चरण में 977 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं.

इस चुनाव को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए प्रतिष्ठा की लड़ाई और कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व के लिए एक परीक्षा के रूप में देखा जा रहा है. इस चरण में विधानसभा की 182 सीटों में से 89 सीटों पर मतदान होगा. इस चरण में सौराष्ट्र और दक्षिण गुजरात क्षेत्रों में चुनाव होगा. मुख्यमंत्री विजय रुपाणी समेत 977 उम्मीदवार चुनाव मैदान में है. मतदान नौ दिसम्बर को होगा.

अरब सागर तट पर स्थित सौराष्ट्र में राज्य के 11 जिले आते है. कच्छ सबसे बड़ा जिला है जिसमें 10 तालुक, 939 गांव और छह नगर पालिकाएं आती है. राज्य में वर्ष 2012 में हुए विधानसभा चुनावों में सौराष्ट्र और कच्छ की 58 सीटों में से भाजपा ने 35 सीटें जीती थी और कांग्रेस ने 20 सीटों पर जीत दर्ज की थी. शेष तीन सीटों में से दो सीटें गुजरात परिवर्तन पार्टी और एक सीट राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने जीती थीं.

इस चरण के लिए हुए चुनाव प्रचार अभियान के दौरान प्रधानमंत्री ने लगभग 14 रैलियों को संबोधित किया था जबकि राहुल ने सौराष्ट्र और दक्षिण गुजरात में सात से अधिक दिन बिताये थे और कई सभाओं को संबोधित किया था. दूसरे और अंतिम चरण का मतदान 14 दिसम्बर को होगा और मतगणना 18 दिसम्बर को होगी.