गुजरात में जिला पंचायत, तहसील पंचायत और नगरपालिका की 125 सीटों पर हुए उपचुनाव के रुझान और नतीजों में बीजेपी 109 सीटें जीत गई है। इससे पहले बीजेपी की 125 में से 64 के करीब बीजेपी की सीटें थीं जो बढ़कर 109 हो गई है।  कांग्रेस की करीब पहले 52 थीं जो घटकर 16 के करीब रह गई हैं। नगरपालिका, तालुका पंचायत और तहसील पंचायत चुनाव के लिए हुई मतगणना में जहां भाजपा ने 32 में से 28 सीटों पर कब्‍जा जमाया है वीं कांग्रेस के खाते में 7 सीटें गई हैं। इससे पहले भाजपा के पास केवल 9 सीटें थीं। भाजपा नेता इसे पीएम मोदी के नोटबंदी के कदम को जनता का समर्थन बता रहे हैं।

तहसील, जिला पंचायत और पालिका में भी BJP का कब्जा।
राज्य में हुए तहसील, जिला पंचायत और नगर पालिका के उपचुनावों में भी बीजेपी ने बाजी मार ली है। वापी नगरपालिका की कुल 44 सीटों में से बीजेपी ने 42 सीटों पर जीत दर्ज की और कांग्रेस सिर्फ 2 सीट ही जीत पाई। वहीं सूरत की कनकपुर नगरपालिका में 28 में से 27 सीटों पर भाजपा जीती और मात्र 1 सीट पर कांग्रेस पार्टी को जीत मिली। गोंडल तहसील पंचायत में 22 सीटों पर हुए चुनावों में 18 सीटों पर BJP ने विजय प्राप्त की और कांग्रेस सिर्फ 4 सीटों पर ही जीत पाई। यह भी पढ़े-महाराष्ट्र के बाद गुजरात के निकाय चुनावों में भी बीजेपी की जीत

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि बीजेपी ने मध्य प्रदेश, असम, महाराष्ट्र, गुजरात में जीत दर्ज की है जबकि बंगाल में उसके नंबर बढ़े हैं। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा, ”गुजरात और महाराष्ट्र में स्थानीय निकाय चुनाव के नतीजों से साफ हो गया है कि देश की जनता ब्लैकमनी के खिलाफ नोटबंदी के फैसले के साथ है।”

गौरतलब है कि नोटबंदी के फैसले के बाद अनुमान लगाया जा रहा था कि बीजेपी को इसकी कीमत चुकानी होगी, लेकिन महाराष्ट्र और गुजरात के नतीजों से सारे अनुमान गलत साबित हो गए। दरअसल नोटबंदी को लेकर विपक्ष का आरोप है कि जनता को खासी दिक्कत हो रही है और जनता चुनावों में बीजेपी को सबक सिखाएगी।