नई दिल्ली: बुधवार को राज्यसभा में सेवानिवृत्त हो रहे सदस्यों की विदाई के दौरान कई नजारे देखने को मिले. सपा के आजम खान ने वित्त मंत्री अरुण जेटली के उत्तर प्रदेश से सदन के लिए चुने जाने पर खुशी जताई तो कांग्रेस के सत्यव्रत चतुर्वेदी ने राजनीतिक जीवन से भी सेवानिवृत्ति की घोषणा कर दी.

सबसे रोचक वाकया तब देखने को मिला जब राज्यसभा में विपक्ष के नेता कांग्रेस के गुलाम नबी आजाद बोलने के लिए खड़े हुए. आजाद ने हाल ही में भाजपा में शामिल हुए सपा सदस्य नरेश अग्रवाल का विशेष जिक्र करते हुए कहा कि वे तो ऐसे सूरज हैं जो इधर डूबे तो उधर निकल जाते हैं. आजाद अग्रवाल के बार-बार दल बदलने पर तंज कस रहे थे. उन्होंने आगे यह भी जोड़ा कि अब वे जिस भी पार्टी में जाएंगे, वह उनकी क्षमताओं का पूरा उपयोग करेगी.

हालांकि, नरेश अग्रवाल भी इस पर चुप नहीं रहे. सभी दलों की अपनी यात्रा का जिक्र करते हुए कहा कि कुछ तो है उनमें जिसकी वजह से उन्हें हर दल में स्वीकार कर लिया जाता है. अग्रवाल ने इशारों में कहा कि उन्हें अपमान बर्दाश्त नहीं होता है. इतना ही नहीं उन्होंने जल्द ही किसी सदन में खुद के फिर से आने की उम्मीद भी जताई.