नई दिल्ली। रामजस कॉलेज में फ्री स्पीच के लिए आवाज़ बुलंद करने वाली गुरमेहर कौर को टाइम मैगज़ीन ने नेक्स्ट जनरेशन लीडर्स फॉर 2017 की लिस्ट में शामिल किया है. टाइम मैगजीन ने गुरमेहर कौर को ‘फ्री स्पीच वॉरियर्स’ का टाइटल भी दिया है. गुरमेहर दिल्ली यूनिवर्सिटी के रामजस कॉलेज में पढ़ती हैं. इस साल की शुरुआत में उन्होंने अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के खिलाफ कैम्पेन चलाकर सुर्खियों में आ गई थी.

दिल्ली यूनिवर्सिटी के लेडी श्री राम कॉलेज में पढ़ने वाली कौर  ने सोशल मीडिया पर एबीवीपी के खिलाफ कुछ फोटो पोस्ट की थी, जिसमें कुछ कार्ड्स थे. उनमें लिखा था- ‘मैं दिल्ली यूनिवर्सिटी की स्टूडेंट हूं और एबीवीपी से नहीं डरती हूं.’  मैं अकेली नहीं हूं, भारत का हर स्टूडेंट मेरे साथ है.#StudentsAgainstABVP. गुरमेहर की यह पोस्ट वायरल हो गई जिसके बाद देश-दुनिया में गुरमेहर ने सुर्खियां बटोरी.

नहीं कर सकते पीड़ित बच्चों की अनदेखी, अगली सुनवाई तक रोहिंग्याओं की वापसी नहीं: SC

नहीं कर सकते पीड़ित बच्चों की अनदेखी, अगली सुनवाई तक रोहिंग्याओं की वापसी नहीं: SC

20 वर्षीय गुरमेहर जालंधर की रहने वाली हैं. उनके पिता भारतीय सेना में थे और युद्ध के दौरान देश की सेवा करते हुए शहीद हो गए. गुरमेहर ने एक वीडियो ‘सोल्जर ऑफ पीस’ नाम से भी बनाया. जिसमें वो कह रही थीं ‘मेरी मां ने मुझे बताया है कि पाकिस्तानियों ने मेरे पिता को नहीं मारा, बल्कि युद्ध ने उन्हें मारा है. आज मैं भी सिपाही हूं, अपने पिता की तरह. मैं भारत और पाकिस्तान के बीच शांति हो इसके लिए लड़ाई लड़ रही हूं.’ गुरमेहर कौर ‘पोस्टकार्ड्स फोर पीस’ संस्थान की एंबेसेडर भी हैं, जो देश में भेदभाव के खिलाफ आवाज उठाती है.