नई दिल्ली. राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) ने केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय, केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा परिषद (सीबीएसई) और दिल्ली पुलिस के आयुक्त को दो विषयों के पेपर लीक के मुद्दे पर नोटिस जारी किया है. आयोग ने इनसे चार हफ्तों में मामले की विस्तृत रिपोर्ट मांगी है. आयोग ने यह भी कहा कि ऐसी घटनाएं उन संस्थाओं की विश्वसनीयता को प्रतिकूल तरीके से प्रभावित करती हैं, जिनमें छात्रों का अगाध विश्वास होता है. आयोग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि मानव संसाधन विकास मंत्रालय के सचिव, सीबीएसई के अध्यक्ष और दिल्ली पुलिस के आयुक्त को नोटिस भेजकर चार हफ्तों में विस्तृत रिपोर्ट मांगी गई है. एक बयान के मुताबिक, नोटिस में मंत्रालय से अपेक्षा की गई है कि वह आयोग को बताए कि पीड़ित छात्रों को परामर्श देने, बोर्ड परीक्षाओं को विश्वसनीय बनाने के बाबत क्या कदम उठाए गए हैं, जिससे कि भविष्य में ऐसी दुखद घटनाएं नहीं हों.

यह भी पढ़ें – हाईकोर्ट ने पूछा- कब होगी 10वीं के मैथ्स की दोबारा परीक्षा

लीक हुए पेपर्स की परीक्षा कराने की घोषणा
मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने पेपर लीक की घटना के बाद पिछले हफ्ते ही एलान किया कि सीबीएसई की 12वीं कक्षा के अर्थशास्त्र विषय की दोबारा परीक्षा 25 अप्रैल को होगी. वहीं, 10वीं कक्षा के गणित की दोबारा परीक्षा जरूरत पड़ने पर सिर्फ दिल्ली-एनसीआर एवं हरियाणा के लिए कराई जाएगी. यह परीक्षा जुलाई में होने की संभावना है. गौरतलब है कि 12वीं की अर्थशास्त्र और 10वीं के गणित के पेपर लीक होने के बाद दोबारा परीक्षा कराए जाने के खिलाफ भी सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की गई है. इस याचिका में कहा गया है कि ताजा मामले की जांच जब तक पूरी नहीं हो जाती है, तब तक दोबारा परीक्षा कराए जाने का कोई औचित्य नहीं है. यदि फिर भी सीबीएसई दोबारा परीक्षा लेता है तो यह इस वर्ष परीक्षा देने वाले 16 लाख से ज्यादा परीक्षार्थियों के मूलभूत अधिकारों का हनन है.

पेपर लीक में तीन लोगों को किया गया था गिरफ्तार
सीबीएसई पेपर लीक मामले में पुलिस ने तीन लोगों को गिरफ्तार किया था. पुलिस के अनुसार इन तीनों के नाम ऋषभ, तौकीर और रोहित हैं. तीनों आरोपियों ने पुलिस के सामने यह बात कबूली थी कि कुछ हजार रुपए हासिल करने के लिए इन तीनों ने सीबीएसई के पेपर लीक कराए थे. पुलिस को दिए गए बयान में तौकीर ने बताया था कि उसने रोहित और ऋषभ से अपने छात्रों की मदद करने के लिए 12वीं के अर्थशास्त्र के पेपर लीक करने को कहा था.

(इनपुट – भाषा)