नई दिल्ली। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज कहा कि ‘मेक इन इंडिया के तहत ‘उन्नत मध्यम लड़ाकू विमान’(एएमसीए) नामक स्वदेशी स्टील्थ लड़ाकू विमान विकसित करने की तैयारी है. लोकसभा में साधु सिंह के प्रश्न के लिखित उत्तर में सीतारमण ने कहा कि एएमसीए नामक स्टील्थ लड़ाकू विमान जेट विकसित करने के लिए एक कार्यक्रम शुरू करने की योजना बनाई गई है. इसके लिए व्यावहारिकता संबंधी अध्ययन पूरा कर लिया गया है.

उन्होंने कहा कि ‘मेक इन इंडिया’ कदम के तहत इस विमान को विकसित करने की योजना बनाई गई है. मंत्री ने कहा कि विनिर्माण भागीदार के बारे में अंतिम रूप से निर्णय लिए जाने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी.

रडार की पकड़ में नहीं आते

बता दें कि स्‍टील्‍थ विमान अक्सर रडार की पकड़ में नहीं आते हैं. अमेरिका की एयरफोर्स की असली ताकत इन्हीं विमानों को माना जाता है. ये विमान रडार में पकड़ में नहीं आने की वजह से दुश्मन पर भारी पड़ते हैं और अपना काम सफलता से अंजाम देते हैं. अपने खास डिजायन के कारण ये रडार को चकमा दे जाते हैं.

सुखोई 30 है भारत की ताकत

वहीं, भारतीय वायु सेना की असली ताकत सुखोई 30 को माना जाता है. हाल ही में भारत ने वायुसेना के सुखोई-30 एमकेआई लड़ाकू विमान से ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का सफलतापूर्वक परीक्षण कर अपनी ताकत में और इजाफा किया था . इस सफल परीक्षण के बाद वायुसेना तेजस पर भी ब्रह्मोस को फिट करने को लेकर आश्वस्त है. अगर इसमें कामयाबी मिलती है तो भारत के लिए ये एक और मील का पत्थर साबित होगा.