नोटबंदी के मुद्दे पर मोदी सरकार का विरोध कर रही पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार देर रात कोलकाता के कुछ इलाकों में सेना की तैनाती पर नाराजगी जताई है। ममता ने मोदी सरकार पर आरोप लगाया कि उन्होने इमरजेंसी जैसे हालात पैदा कर दिए हैं। उन्होंने इस पर कड़ी आपत्ति जताते हुए इसे राजनीतिक साजिश करार दिया और कहा कि जब तक सेना नहीं हटेगी, तब तक वे भी राज्य सचिवालय नबन्ना से नही हटेंगी। ममता के नाराजगी के बाद राज्य सचिवालय नबन्ना के पास स्थित टोल प्लाजा से सैन्य कर्मियों को हटा लिया गया। इसके अलावा हुगली पुल के टोल प्लाजा के नजदीक बने एक अस्थायी शेड को भी हटा दिया गया है। हालांकि, सैन्यकर्मियों को हटाने के बारे में सेना की ओर से कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है। सैन्यकर्मियों को हटाने के बारे में सेना की ओर से कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है।

ममता ने कहा कि राज्य में कुछ जगहों पर सेना के जवान तैनात कर दिए गए हैं। इस संबंध में मुख्य सचिव बासुदेव बनर्जी केंद्र को पत्र लिखेंगे। वह खुद राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से संपर्क कर इसकी जानकारी देंगी। ममता ने सवाल किया कि सिर्फ बंगाल में ही इस तरह की घटनाएं क्यों हो रही? दूसरे राज्यों में ऐसा क्यों नहीं देखने को मिल रहा? यह संघीय ढांचे पर प्रहार है।

ममता बनर्जी का आरोप है कि प्रदेश सरकार को सूचित किए बगैर राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या दो पर पलसित और दानकुनी के दो टोल प्लाजा पर सेना तैनात की गई है, जो बहुत गंभीर स्थिति है, आपातकाल से भी खराब।  ममता बनर्जी ने राज्य सचिवालय में ही रुके रहने का फैसला करते हुए कहा कि जब तक टोल प्लाजा से सेना नहीं हटाई जाती, वह तब तक वहां से नहीं जाएंगी।
यह भी पढ़ें: नोटबंदी के विरोध के कारण ममता बनर्जी को जान से मारने की साजिशः तृणमूल कांग्रेस

हालांकि, ममता ने कहा, ‘उनका इरादा राजनीतिक, असंवैधानिक, बदले की भावना, अनैतिक, अलोकतांत्रिक है। मैंने निर्णय किया है कि जब तक सेना को इस सचिवालय के सामने से नहीं हटाया जाता है, मैं यहां से नहीं जाउंगी। मैं आज रात यहां ठहरूंगी। क्या इस देश में सेना द्वारा तख्ता पलट किया जा रहा है?’

मुख्‍यमंत्री ने जानना चाहा, “क्या यह संघीय व्यवस्था पर हमला है। हम विस्तार में जानकारी चाहते हैं। मुख्य सचिव केंद्र को पत्र लिख रहे हैं। अवसर मिलने पर इस मुद्दे को लेकर मैं राष्ट्रपति से बात करूंगी। क्या देश में अघोषित आपातकाल लागू कर दिया गया है?”

मुख्यमंत्री ने कहा, बड़ी आपदाओं और सांप्रदायिक तनाव के दौरान सेना की जरूरत होती है।” यदि यह मॉक ड्रिल है, तब भी राज्य सरकार को सूचित किया जाता है।” ममता ने दावा किया कि टोल प्लाजा पर सेना तैनात होने के कारण लोगों में अफरा-तफरी है।