नई दिल्ली: इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू आज छह दिवसीय यात्रा पर भारत पहुंचे हैं और उनकी इस यात्रा के दौरान दोनों देश रक्षा, कृषि, जल संरक्षण, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, आंतरिक सुरक्षा समेत द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर व्यापक चर्चा करेंगे.

14 साल बाद भारत की धरती पर आए इजरायली पीएम के रूप में आ रहे बेंजामिन नेतन्याहू अपने इस दौरे में दोस्त भारत के लिए कई तोहफे भी लेकर आए हैं. इन तोहफों के बारे में अंदाजा इसी बात से लगाइए कि नेतन्याहू अपने साथ कई नामचीन कंपनियों के 130 दिग्गजों का प्रतिनिधिमंडल अपने साथ लाए हैं.

दोनों देशों के बीच है ऐसा संबंध

-1990 से ही भारत और इसराइल के बीच सैन्य संबंध सबसे अहम रहे हैं.

– बीते एक दशक में दोनों देशों के बीच 670 अरब रुपए का कारोबार हुआ.

– मौजूदा समय में भारत सालाना करीब 67 अरब से 100 अरब रुपए के सैन्य उत्पाद इजरायल से आयात कर रहा है.

– 1992 में दोनों देशों के बीच कूटनीतिक संबंधों की शुरुआत हुई.

– इजराइल की हथियार बेचने की मंशा ने भी दोनों देशों के बीच रिश्ते को मज़बूती दी.

– इसमें 1999 के करगिल युद्ध के दौरान इस्तेमाल किए गए लेजर गाइडेड बम और मानवरहित हवाई वाहन शामिल रहे हैं.

– संकट के समय भारत के अनुरोध पर इजराइल हमेशा मदद के लिए आगे आया और भारत के लिए भरोसेमंद हथियार आपूर्ति करने वाले देश के तौर पर स्थापित किया.

– आज भी भारत इजरायल से काफी हथियार खरीदता है.

दोनों देशों के बीच यह हो सकते हैं सौदे

72 मिलियन डॉलर के 131 बराक मिसाइल खरीद के सौदे को अंतिम रूप दिया जाएगा.

– मोदी के इजरायल दौरे में हुए एंटी-टैंक गाइडेड मिसाइल सौदे के रद्द होने के बाद फिर उस डील पर पुनर्विचार हो सकता है.

– तेल, गैस, ऊर्जा, नवीनीकरण ऊर्जा और सुरक्षा से जुड़े कई समझौतों पर भी हस्ताक्षर होंगे.

– नेतन्याहू के साथ आ रहे साइबर दिग्गजों से समझौतों की उम्मीद.

– कृषि क्षेत्र से जुड़े 130 दिग्गज कारोबारियों के साथ भी कई अहम समझौते होने की उम्मीद है.

– नेतन्याहू जल समस्या को दूर करने के लिए एक खास मशीन भी पीएम मोदी को गिफ्ट करेंगे.