नई दिल्ली। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि जम्मू कश्मीर में इस साल बीते सात महीनों में 70 युवा आतंकवादी समूहों में शामिल हुए हैं और इनमें से अधिकतर युवा दक्षिण कश्मीर के तीन जिलों से संबंधित हैं. इनमें से अधिकतर युवा तकनीक की अच्छी जानकारी रखने वाले आतंकियों का गढ़ बन चुके दक्षिणी कश्मीर के पुलवामा, शोपियां और कुलगाम जिलों के हैं.

एक वरिष्ठ सुरक्षा अधिकारी ने आधिकारिक आंकड़ों के हवाले से बताया कि इस साल सात महीने में घाटी में करीब 70 युवा आतंकी समूहों का हिस्सा बने हैं. अधिकारी ने दावा किया 2016 में कुल 88 कश्मीरी युवा आतंकवादी समूहों में शामिल हुए थे.

2014 से आतंकवादी समूहों में शामिल होने वाले लोगों की संख्या लगातार बढ़ी है. सुरक्षा एजेंसियों द्वारा संकलित आंकड़े के मुताबिक कश्मीर में 2015 में 66 युवा, 2014 में 53 युवा आतंकवादी समूहों में शामिल हुए थे.

वहीं 2010 में यह संख्या 54 थी जो 2011 में घटकर 23 हो गई. 2012 और 2013 में यह संख्या और घटकर क्रमश: 21 और 16 हो गई. अधिकारियों का कहना है कि पुलवामा-शोपियां-कुलगाम क्षेत्र कश्मीरी आतंकियों का गढ़ बन गया है.