श्रीनगर| जम्मू-कश्मीर पुलिस ने शोपियां जिले में आज उन परिवारवालों से मिलने का अभियान शुरू किया जिनके घर के युवाओं ने आतंकवाद का रास्ता अपना लिया है. पुलिस बल का मकसद इन युवाओं को मुख्य धारा में लाना है. दक्षिणी कश्मीर के डीआईजी एस पी पानी, एसएसपी शोपियां श्रीराम अंबरकार के साथ पुलिस के एक दल ने उन 30 परिवार से मुलाकात की जो कठिन परिस्थितियों से गुजर रहे हैं. पुलिस इन परिवारवालों के प्यारे लोगों को विध्वंस के रास्ते से निकालने का रास्ता तलाश रही है.

सेना ने लिया अमरनाथ हमले का बदला, तीसरे आतंकी को भी किया ढेर

सेना ने लिया अमरनाथ हमले का बदला, तीसरे आतंकी को भी किया ढेर

प्रवक्ता ने बताया कि आतंकवाद का रास्ता चुनने वाले युवाओं के परिवार के सदस्यों को यह आश्वासन दिया गया कि उनके बच्चों के लिए मुख्यधारा का रास्ता खुला हुआ है. आपको बता दें कि हाल ही में आतंकी संगठन लश्कर-ए-तयैबा से जुड़े एक युवक ने आत्मसमर्पण कर दिया था.

माजिद खान नाम का युवक फुटबॉल प्लेयर था और जम्मू-कश्मीर की मुफ्ती सरकार ने युवक के खिलाफ कोई भी आपराधिक मामला दर्ज न करने का फैसला किया. लश्कर-ए-तयैबा से जुड़ने के करीब एक हफ्ते बाद इस फुटबॉलर ने अपने परिवार की बात मानकर आत्मसमर्पण कर दिया था.