श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में शनिवार को आतंकियों ने स्पेशल पुलिस ऑफिसर (एसपीओ) मोहम्मद अशरफ की गोली मारकर हत्या कर दी. आतंकियों ने शनिवार सुबह अशरफ को गोली मारी थी जिसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती करवाया गया था लेकिन उपचार के दौरान उनकी मौत हो गई. इसके अलावा आतंकियों ने एक स्थानीय नागरिक को भी अपना निशाना बनाया है. पुलिस ने बताया कि पुलवामा के मुर्रन चौक के नजदीक अशरफ को आतंकियों ने नजदीक से गोली मारकर उनकी हत्या कर दी. अशरफ पुलवामा में माचपुना के रहने वाले हैं लेकिन इन दिनों वह शहर के चानापोरा इलाके में रह रहे थे.

खबर के मुताबिक मोहम्मह अशरफ पहले आतंकवादी संगठन से ही जुड़े हुए थे लेकिन बाद में वो आतंक का रास्ता छोड़कर मुख्यधारा में आ गए थे. आतंक की दुनिया से समाज की मुख्यधारा में आने के बाद पुलिस ने भी उनको एसपीओ नियुक्त किया था ताकि वो आतंकियों के खिलाफ लड़ाई में पुलिस का सहयोग कर सकें. अशरफ भी इस काम में पुलिस की पूरी मदद करते थे.

शनिवार को ही अनंतनाग के खानबल क्षेत्र में आतंकवादियों ने एक अन्य एसपीओ त्रिलोक सिंह को गोली मार दी थी. सिंह को अस्पताल में भर्ती कराया गया है तथा पुलिस ने दोनों स्थानों पर आतंकवादियों को पकड़ने के लिए घेरेबंदी कर दी है. इससे पहले आतंकवादियों ने गुरुवार को अनंतनाग में ही एक अन्य एसपीओ की गोली मारकर हत्या कर दी थी. पुलिस के एक अधिकारी के अनुसार, कुछ आतंकवादी गुरुवार शाम अनंतनाग के बिजबेहरा क्षेत्र में एसपीओ मुश्ताक अहमद शेख के घर में घुसकर उन पर गोलीबारी की थी. हमले में शेख की मौत घटनास्थल पर ही हो गई और उनकी पत्नी गंभीर रूप से घायल हो गई थीं.

निश्चित मासिक वेतन पर काम करने वाले एसपीओ नियमित पुलिसकर्मी नहीं होते हैं. इनकी भर्ती 1990 के दशक में उग्रवाद से लड़ने के लिए की गई थी.