नई दिल्ली। जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) में नीतीश कुमार और शरद यादव के बीच मतभेद बढ़ता ही जा रहा है. जेडीयू ने शरद यादव को राज्य सभा में पार्टी संसदीय दल के नेता के पद से हटा दिया है. राज्यसभा में जेडीयू के सांसदों ने शनिवार को सभापति वेंकैया नायडू से मिलकर आरसीपी सिंह को सदन में पार्टी का नया नेता बनाने का आधिकारिक पत्र सौंपा.

जेडीयू के बिहार प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने कहा कि शरद यादव को हटाया नहीं गया है बल्कि उनकी जगह आरसीपी सिंह राज्य सभा में पार्टी संसदीय दल का नेता चुना गया है. उन्होंने कहा कि कि शरद यादव के हाल के दिनों की गतिविधियों को देखते हुए ये जरूरी हो गया था.

वशिष्ठ ने बताया कि अगर कोई व्यक्ति पार्टी के विरुद्ध गतिविधियों में पाया जाता है तो उसके खिलाफ जरूरी कदम उठाए जाएंगे और इसमें किसी की भी असहमति नहीं होनी चाहिए. बता दें कि इससे पहले अली अनवर को जेडीयू के संसदीय दल से निलंबति किया गया था.

उधर, नीतीश कुृमार ने शुक्रवार को कहा था कि जेडीयू के वरिष्ठ नेता शरद यादव अपना रास्ता चुनने के लिए स्वतंत्र हैं. उन्होंने कहा कि पार्टी ने बीजेपी के साथ जाने का फैसला आम सहमति से लिया है. ऐसे में शरद यादव अपना रास्ता चुनने के लिए स्वतंत्र हैं.