नई दिल्‍ली: सीबीएसई द्वारा लगातार छठे वर्ष आयोजित जेईई-मेन परीक्षा ऑफलाइन मोड में 8 अप्रैल को होगी. ऑनलाइन मोड में इसका आयोजन 15 और 16 अप्रैल को होगी. इस साल इस परीक्षा में लगभग 12 लाख विद्यार्थी बैठ रहे हैं. इस परीक्षा के आधार पर शीर्ष दो लाख बीस हजार विद्यार्थी जेईई -एडवांस्ड में बैठ सकेंगे. इंडिया डॉट कॉम ने छात्रों की सहूलियत के लिए एक्‍सपर्ट्स और कोचिंग संस्‍थानों की मदद से पिछले साल के क्‍वेश्‍चन पेपर का विश्‍लेषण किया है. इसके अनुसार 2017 में गणित के प्रश्न अपेक्षाकृत कठिन, केमिस्ट्री के प्रश्न गणित के मुकाबले कम कठिन और फिजिक्स के प्रश्न अपेक्षाकृत सरल थे. पेपर में 44.4 प्रतिशत प्रश्‍न कक्षा 11 के पाठ्यक्रम से और 55.6 प्रतिशत प्रश्‍न कक्षा 12 के पाठयक्रम से थे. पिछले वर्षों की तरह जेईई-मेन के पेपर में फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथ्स तीनों के तीस-तीस प्रश्‍न 4-4 अंकों के थे. कुल मिलाकर 360 अंकों के इस पेपर के प्रत्येक गलत उत्तर के लिए एक अंक की नेगेटिव मार्किंग की जाएगी.

पूर्व के वर्षों की तरह जेईई-एडवांस परीक्षा के आधार पर आईआईटी संस्थानों में प्रवेश के लिए बोर्ड की परीक्षा में न्यूनतम 75 प्रतिशत अंक या बोर्ड की टॉप 20 पर्सेंटाइल में आना तो अनिवार्य है ही, इस अनिवार्यता को अब 31एनआईटी और 20 ट्रिपल आईटी संस्थानों में प्रवेश के लिए भी लागू कर दिया गया है. इसके अलावा जेईई-मेन परीक्षा में मिले अंकों के आधार पर ही मेरिट लिस्ट बनाकर विद्यार्थियों को जेईई-मेन की रैकिंग दी जाएगी, जिसके आधार पर उक्त संस्थानों के साथ ही देश के अधिकांश राज्यों के सरकारी और निजी इंजीनियरिंग कॉलेजों में प्रवेश मिलेगा. बोर्ड की 12 वीं की परीक्षा में मिले अंकों को 40 प्रतिशत वेटेज देने की व्यवस्था पिछले वर्ष से समाप्त कर दी गई थी.

क्‍वेश्‍चन पेपर की सब्‍जेक्‍ट वाइज एनालिसिस

फिजिक्‍स

फिजिक्‍स

केमिस्‍ट्री

केमिस्‍ट्री

मैथ्‍स

मैथ्‍स

कठिनाई के आधार पर प्रश्‍नों का विश्‍लेषण

भौतिकी (फिजिक्स) का पेपर स्तर औसत था, अधिकांश अध्याय कवर किए गए थे. 6 प्रश्न कठिन थे, 10 आसान थे और 14 औसत थे। जेईई मेन 2017 का 50ः भौतिकी का पेपर औसत था.
JEE MAIN ANALYSIS (1)1 copy