जयपुर: गुजरात के वडगाम से विधायक और दलित नेता जिग्नेश मेवाणी को आज जयपुर पुलिस ने एयरपोर्ट पर ही हिरासत में ले लिया. जिग्नेश राजस्थान के नागौर में एक सभा को संबोधित करने जा रहे थे लेकिन पुलिस ने वहां धारा 144 लगा दी और एयरपोर्ट से बाहर निकलते ही जिग्नेश को हिरासत में ले लिया गया. जिग्नेश ने खुद को हिरासत में लिए जाने का विरोध किया और एक के बाद एक कई ट्वीट किए.

जिग्नेश ने इस घटना से जुड़े अपने पहले ट्वीट में लिखा, ”आज जयपुर एयरपोर्ट पर उतरने के तुरंत बाद पुलिस ने मुझे हिरासत में ले लिया और मुझे एक लेटर पर साइन करने के लिए कहा जिसमें लिखा था कि राजस्थान के नागौर जिले में विधायक जिग्नेश मेवाणी की एंट्री बैन है. मैं वहां भारतीय संविधान और बाबा साहब आंबेडकर के ऊपर एक कार्यक्रम में भाग लेने जा रहा था.”

जिग्नेश ने जयपुर पुलिस पर आरोप लगाया कि पुलिस उन पर इस बात का दबाव बना रही है कि वो वापस अहमदाबाद चले जाएं. एक अन्य ट्वीट में जिग्नेश ने लिखा कि डीसीपी ने उन्हें कहा है कि वो जयपुर में कहीं भी नहीं जा सकते और न ही कोई प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सकते हैं. अपने एक ट्वीट में जिग्नेश ने क्रांतिकारी कवि पाश की कविता का जिक्र करते हुए राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को चुनौती दी और लिखा, ”वसुंधरा जी, याद रखिएगा – मेरा क्या है, मैं तो घास हूं.”

जिग्नेश ने राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे पर भी निशाना साधा. हार्दिक ने कहा कि, ”अगर मोहन भागवत राजस्थान के नागौर में मनुस्मृति पर बोलने के लिए जाते तो राजे उन्हें जरूर अनुमति दे देतीं. लेकिन क्योंकि मैं बाबा साहब आंबेडकर की विचारधारा पर बोलने वाला था इसलिए मुझे रोक दिया गया. वसुंधरा जी, हमारा भी वाद रहा, चुनाव में मजा आएगा.”

वहीं जिग्नेश को एयरपोर्ट पर ही हिरासत में लिए जाने पर पुलिस डीसीपी कुंवर राष्ट्रदीप ने कहा कि मेरटा सिटी के साथ-साथ जयपुर में भी धारा 144 लागू है. इसलिए कोई भी बिना किसी पूर्व अनुमति के मीटिंग नहीं कर सकता है. यही वजह है कि जिग्नेश को एयरपोर्ट पर ही रोक लिया गया है. पुलिस ने कहा कि जिग्नेश के सभा करने से माहौल बिगड़ सकता है इसलिए सुरक्षा के दृष्टि से यह कदम उठाया गया है.