बेंगलुरू। कर्नाटक कांग्रेस ने आज कहा कि 224 सदस्यीय राज्य विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी के सभी उम्मीदवारों की घोषणा 15 अप्रैल तक एकल चरण में कर दी जाएगी. कर्नाटक विधानसभा चुनाव 12 मई को होना है. कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष जी. परमेश्वर ने कहा कि हम सभी 224 विधानसभा सीटों के लिए उम्मीदवारों की घोषणा एक ही चरण में करेंगे. चूंकि चुनाव की तारीख की घोषणा पहले ही हो चुकी है, हमें यह जल्द से जल्द करना होगा.

उन्होंने कहा कि पार्टी की स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक नौ और 10 अप्रैल को होगी. केंद्रीय चुनाव कमेटी कीबैठक उसके बाद होगी. विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी उम्मीदवारों की सूची15 अप्रैल तक जारी होगी. चुनाव आयोग ने मंगलवार को घोषणा की थी कि इस दक्षिणी राज्य में विधानसभा चुनाव एक चरण में12 मई को होगा जबकि मतगणना 15 मई को होगी. चुनाव की तैयारियों को लेकर मुख्यमंत्री सिद्धारमैया और परमेश्वर विभिन्न जिलों के प्रभारी मंत्रियों और चुनाव घोषणापत्र कमेटी के साथ बैठकें कर रहे हैं. 

कर्नाटक विधानसभा चुनाव का बिगुल बजा, 12 मई को वोटिंग, रिजल्ट 15 को

कर्नाटक विधानसभा चुनाव का बिगुल बजा, 12 मई को वोटिंग, रिजल्ट 15 को

बीजेपी की रणनीति
अगले महीने कर्नाटक में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी ने जोरदार रणनीति बनानी शुरू कर दी है. देश के इस दक्षिणी राज्य में अपनी पकड़ फिर से मजबूत करने और विपक्षी कांग्रेस पार्टी को करारी शिकस्त देने के लिए भाजपा ने व्यापक योजना बनाई है. इसके तहत एक तरफ तो पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह जमीनी स्तर का काम देखेंगे. वहीं यूपी, गुजरात, हिमाचल प्रदेश और उत्तर-पूर्वी तीन राज्यों के विधानसभा चुनाव के तर्ज पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी प्रचारक का जिम्मा संभालेंगे.

अमित शाह ने संभाली कमान
पार्टी अध्यक्ष अमित शाह कर्नाटक के दौरे पर हैं और न सिर्फ भाजपा के कार्यकर्ताओं से मिलेंगे, बल्कि राज्य में विभिन्न सेक्टर में काम करने वाले समूहों से भी बात कर रहे हैं. इसके अलावा वे पार्टी की अंदरूनी कमियों को भी ठीक करने का काम में लगे हैं. सीएम सिद्धारमैया ने लिंगायत समुदाय को अलग धर्म का दर्जा देने का दांव खेलकर बीजेपी को मुश्किल में डाल दिया है. अब बीजेपी इस दांव की काट में लगी हुई है. शाह ने इसके जवाब में कहा है कि कांग्रेस लिंगायत समुदाय के येदियुरप्पा को सीएम बनता नहीं देखना चाहती इसलिए इस तरह का फैसला लिया है. हालांकि सिद्धारमैया के इस फैसले को लिंगायत मठों का समर्थन मिल रहा है जिसने बीजेपी को चिंता में डाल दिया है.

 

2013 का गणित
2013 के विधानसभा चुनाव में राज्य की कुल 224 सीटों में से कांग्रेस ने 122 सीटें जीती थीं. जबकि बीजेपी 40 और जेडीएस ने 40 सीटों पर कब्जा किया था. बीजेपी से बगावत कर चुनाव लड़ने वाले बीएस येदियुरप्पा की केजेपी महज 6 सीटें जीत सकी थी. इसके अलावा अन्य को 16 सीटें मिली थीं. हालांकि बाद में येदियुरप्पा दोबारा से बीजेपी के साथ आ गए.