मैसुरू। भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह ने आज कहा कि अगर पार्टी कर्नाटक में सत्ता में आई तो उनकी सरकार पार्टी कार्यकर्ताओं के हत्यारों को पाताल से भी खोज निकालेगी. शाह 12 मई को कर्नाटक में होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर अपनी दो दिवसीय यात्रा के लिए यहां आए हुए हैं. उन्होंने यहां मैसुरू पैलेस के रूप में विख्यात अंबाविलास में पूर्व शाही परिवार से मुलाकात की.

कर्नाटक चुनावः लिंगायत नेता येदियुरप्पा पर ही है भाजपा का पूरा दारोमदार

कर्नाटक चुनावः लिंगायत नेता येदियुरप्पा पर ही है भाजपा का पूरा दारोमदार

आज उन्होंने शाही परिवार के प्रमुख यदुवीर कृष्णादत्ता चामाराजा वडियार, उनकी मां प्रामोदा देवी वाडियार और पत्नी तृषिका कुमारी देवी से मुलाकात की. शाह ने ट्वीट कर कहा, मैसुरू के शाही परिवार के महाराजा यदुवीर, राजामाता प्रमोदा और महारानी तृषिका से शानदार मुलाकात हुई. शाही परिवार से मुलाकात के बाद उन्होंने पत्रकारों को संबोधित करते हुए राज्य के कांग्रेस शासन में भाजपा और राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के कार्यकर्ताओं की हत्या की निंदा की.

शाह ने कहा कि राज्य में 24 कार्यकर्ताओं की हत्या हुई और हत्यारों के विरुद्ध कोई कार्रवाई नहीं की गई. वे लोग खुलेआम घूम रहे हैं. उन्हें और हत्या करने की इजाजत दी जा रही है. सिद्धारमैया सरकार का अंत नजदीक है और जब भाजपा यहां सरकार बनाएगी, हम दोषियों को पाताल से खोज निकालेंगे.

12 मई को वोटिंग
कर्नाटक विधानसभा चुनाव का बिगुल बज चुका है. यहां चुनाव 12 मई को कराए जाएंगे और वोटों की गिनती 15 मई को होगी. कर्नाटक की 224 सदस्यीय विधानसभा के लिए पिछली बार की तरह इस बार भी एक ही चरण में चुनाव होंगे. 2013 के विधानसभा चुनाव में राज्य की कुल 224 सीटों में से कांग्रेस ने 122 सीटें जीती थी. जबकि बीजेपी 40 और जेडीएस ने 40 सीटों पर कब्जा किया था. बीजेपी से बगावत कर चुनाव लड़ने वाले बीएस येदियुरप्पा की केजेपी महज 6 सीटें जीत सकी थी. इसके अलावा अन्य को 16 सीटें मिली थी. हालांकि बाद में येदियुरप्पा दोबारा से बीजेपी के साथ आ गए.

कांग्रेस-बीजेपी में टक्कर
कांग्रेस के लिए कर्नाटक चुनाव बहुत महत्वपूर्ण है. देश के बड़े राज्यों में कर्नाटक ही एक ऐसा राज्य है जिसमें कांग्रेस की सरकार है. कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया की सरकार ने हाल ही में लिंगायत को अगल धर्म का दर्जा देने के लिए केंद्र को सिफारिश भेजी है. राज्य में लिंगायत समुदाय की आबादी 18 प्रतिशत के करीब है. चुनाव में लगभग 100 सीटों पर इनका प्रभाव माना जाता है. इन्हें बीजेपी का कोर वोटर माना जाता रहा है. कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी कर्नाटक में जोर शोर से चुनाव प्रचार कर रहे हैं. इधर, बीजेपी के लिए अमित शाह ने खुद कमान संभाल ली है.