नई दिल्ली: सरकार की धनी और संपन्न ग्राहकों के लिये खादी के सुपर प्रीमियम सेगमेंट की शुरुआत करने की योजना है, ताकि धनी ग्राहकों को आकर्षित करके खादी उत्पादों की बिक्री बढ़ाई जा सके. एक वरिष्ठ अधिकारी ने इसकी जानकारी दी. सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्रालय (एमएसएमई) के सचिव ए के पांडा बताया कि सबसे पहले हम वास्तविक सुपर प्रीमियम खादी उत्पादों की सूची तैयार करेंगे, जो कि देश के विभिन्न हिस्सों में बनाए जा रहे हैं और जिनके बारे में हमें जानकारी नहीं है.

हमें एक या दो उत्पादों के बारे में पता है लेकिन अब हमें एक पूरी सूची तैयार करनी चाहिए और उसे एक जगह पर प्रदर्शित करना चाहिए ताकि युवाओं के पास अपनी पसंद के अनुसार लग्जरी खादी उत्पाद अपनाने का विकल्प हो. पांडा ने कहा कि एमएसएमई मंत्रालय की लग्जरी उत्पाद खंड के लिए शीर्ष डिजाइनरों को भी जोड़ने की योजना है. इसके लिए वस्त्र मंत्रालय की मदद ली जा रही है.

शुरुआत में प्रीमियम खादी उत्पादों को चुनिंदा खादी केंद्रों पर बेचा जाएगा. हालांकि, खादी और ग्रामोद्योग आयोग (केवीआईसी) उत्पादों की पहुंच बढ़ाने के लिए दुनिया भर के शीर्ष लग्जरी ब्रांडों के साथ समझौता कर सकता है. इस प्रस्ताव पर 6 अप्रैल को आयोजित केवीआईसी के निदेशक मंडल की बैठक में भी चर्चा हुई.