नई दिल्लीः प्रधानंमत्री नरेंद्र मोदी ने कटिहार और पुरानी दिल्ली के बीच मंगलवार को चंपारण हमसफर एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाई. यह उत्तरी बिहार की जनता को तेज , सुरक्षित और आरामदेह यात्रा मुहैया कराएगी. यह रेलगाडी़ सप्ताह में दो दिन, मंगलवार और शुक्रवार को चलेगी और 1,383 किलोमीटर की दूरी तय करेगी. पीएम ने इस ट्रेन को हरी झंडी दिखा कर रवाना किया साथ ही मधेपुरा की एक लोको फैक्ट्री को देश को समर्पित किया. पीएम ने बिहार में रेल पटरी की दोहरीकरण परियोजना की अधारशिला रखी. मोदी राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के चंपारण सत्याग्रह के 100 वर्ष पूरा होने के अवसर पर आयोजित एक कार्यक्रम में शिरकत करने यहां आए थे. उनका मकसद स्वच्छ भारत का संदेश फैलाना है.

प्रधानंमत्री ने रेल के मुजफ्फरपुर – सगौली (100.6 km) तथा सगौली – वाल्मीकिनगर खंड (109.7 km) के दोहरीकरण परियोजना की नींव रखी. कटिहार और पुरानी दिल्ली के बीच चंपारण हमसफर एक्सप्रेस ट्रेन को और मधेपुरा फैक्ट्री में निर्मित पहले 12,000 हॉर्स पावर फ्रेट इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव को हरी झंडी दिखा कर रवाना किया. मोदी ने फैक्ट्री के पहले चरण को देश को समर्पित किया.

आर्थिक मामलों की कैबिनेट कमेटी की ओर से 2018 फरवरी को स्वीकृत दोनों खंडों मुजफ्फरपुर – सगौली और सगौली – वाल्मीकिनगर का निर्माण 2,401 करोड़ रुपए की अनुमानित लागत से किया जा रहा है. ये मुजफ्फरनगर , पूर्वी चंपारण तथा पश्चिमी चंपारण जिलों को कवर करेंगे. एक आधिकारिक बयान के अनुसार चंपारण हमसफर एक्सप्रेस उत्तरी बिहार की जनता को तेज , सुरक्षित तथा आरामदेह यात्रा मुहैया कराएगी. यह रेलगाडी़ सप्ताह में दो दिन, मंगलवार तथा शुक्रवार को चलेगी तथा 1,383 किलोमीटर की दूरी तय करेगी.

ट्रेन की खासियत
चंपारण शताब्दी के नाम पर इस ट्रेन का नाम चंपारण हमसफर रखा गया है.
यह ट्रेन 1,383 किलोमीटर की दूरी तय करेगी.
सप्ताह में दो दिन, मंगलवार और शुक्रवार को चलेगी.
चंपारण हमसफर में सिर्फ थर्ड एसी कोच ही होंगे.
इस ट्रेन से उत्तर-पूर्वी बिहार के यात्रियों को विशेष फायदा होगा.
चंपारण हमसफर 16 अप्रैल से नियमित रूप से चलेगी.
सुरक्षा को देखते हुए चंपारण हमसफर एक्सप्रेस के सभी कोच एलएचबी रहेंगे.
कोच में जीपीएस आधारित पैसेंजर इनफार्मेशन डिस्प्ले सिस्टम लगा हुआ है
यात्रियों के सुविधा का ध्यान रखते हुए कोच आरामदायक और सुविधाजनक बनाए गए हैं.
यह ट्रेन पूर्णिया, मधेपुरा, सहरसा, खगड़िया, समस्तीपुर, मुज़फ्फरपुर, मोतिहारी, बेतिया, नरकटियागंज, गोरखपुर, लखनऊ, कानपुर होते हुए दिल्ली को जाएगी.

कितना होगा किराया
चंपारण हमसफर कटिहार-दिल्ली एक्सप्रेस ट्रेन में यात्रा करना महंगा साबित होगा. इस ट्रेन में यात्रा करने वाले यात्रियों को अधिक किराया देना होगा. चंपारण हमसफर का बेस फेयर 1675 रुपए है. वहीं इस ट्रेन के टिकट की अधिकतम कीमत 2681 रुपए तक हो सकती है. तत्काल सरचार्ज 880 रुपए है. 5 से 11 साल तक के बच्चों का न्यूनतम किराया 879 रुपए और अधिकतम किराया 1319 रुपए होगा.