पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह इस मामले पर कानूनी राय लेंगे कि क्या उनके मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू टेलीविजन पर एक मशहूर कॉमेडी शो पर सेलिब्रिटी-जज बने रह सकते हैं या नहीं। सीएम अमरिंदर सिंह ने एक टीवी न्यूज चैनल को बताया कि वह ‘द कपिल शर्मा शो’ पर सिद्धू के सेलिब्रिटी-जज बने रहने को लेकर एडवोकेट जनरल से अपनी राय देने के लिए कहेंगे। सिंह ने चैनल से कहा, ‘‘मैं नहीं जानता कि इस मामले पर संविधान या कानून क्या कहता है। हम एडवोकेट जनरल से इस पर उनकी राय रखने के लिए कहेंगे कि क्या कोई व्यक्ति जो मंत्री है, वह वो काम कर सकता है तो वह करना चाहता है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘यह पूरी तरह से कानूनी राय पर निर्भर करेगा और फिर मैं इस बारे में नवजोत सिंह सिद्धू को सूचित करंगा। सच कहूं तो मैं नहीं जानता कि क्या यह हितों के टकराव का मामला है। जब मुझे उनकी एडवोकेट जनरल और कानूनी विशेषज्ञों की राय मिलेगी, तो मैं उनसे बात करंगा।’’ उप मुख्यमंत्री के पद की दौड़ में सबसे आगे चल रहे माने जा रहे सिद्धू को एक मामूली विभाग दिया गया है। उन्हें पर्यटन और संस्कृति मंत्री बनाया गया है।

इस मुद्दे पर सिद्धू ने कहा कि उनका टीवी कार्यक्रम उनकी मंत्रिमंडल की जिम्मेदारियों में दखल नहीं देगा। उन्होंने कहा, ‘‘पूर्व उप मुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल की तरह मेरा शराब, रेत खनन या परिवहन जैसा कोई कारोबार नहीं है। मैं टीवी शो के जरिये जीविकोपार्जन करता हूं और मैं सोमवार से बृहस्पतिवार तक चंडीगढ़ में रहूंगा और शुक्रवार से रविवार अमृतसर में। मैं रात में क्या करता हूं इससे किसी को कोई मतलब नहीं होना चाहिये। मैं मुंबई में टीवी शूट के बाद पंजाब वापस जाने के लिए पहली उड़ान लूंगा।’’ उन्होंने यह कहकर आलोचकों को मौका दे दिया कि वह शो पर नजर आते रहेंगे। उनकी पत्नी और पूर्व विधायक नवजोत कौर सिद्धू ने उनका समर्थन किया है।

कौर ने रविवार को फेसबुक पर लिखा कि टेलीविजन के अलावा उनके परिवार की आय का कोई अन्य स्रोत नहीं है और इस मुद्दे को बेवजह तूल दिया जा रहा है। क्रिकेटर से नेता बने सिद्धू भाजपा में रहते हुये तीन बार अमृतसर से सांसद रह चुके हैं। हाल ही के विधानसभा चुनावों में वह कांग्रेस की टिकट पर अमृतसर पूर्व सीट से जीते। पहले इस सीट से उनकी पत्नी विधायक थीं।