नई दिल्ली. हिमाचल प्रदेश चुनाव पर चुनाव आयोग ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर जानकारी दी. मुख्य चुनाव आयुक्त ने मीडियाकर्मियों को बताया कि 16 अक्टूबर को हिमाचल इलेक्शन पर नोटिफिकेशन जारी किया जाएगा. 9 नवंबर को वोटिंग होगी और 18 दिसंबर को वोटों की गिनती यानी परिणाम आएंगे. चुनाव आयोग ने गुरुवार को गुजरात चुनाव पर कोई घोषणा नहीं की. इससे पहले, खबर ये आई थी कि चुनाव आयोग गुजरात और हिमाचल दोनों ही राज्यों में चुनाव तारीखों का ऐलान करेगा.

हिमाचल चुनाव पर महत्वपूर्ण अपडेट्स

गुजरात चुनाव की तारीखों ऐलान आज नहीं होगा.

हिमाचल चुनाव के लिए 16 अक्टूबर को नोटिफिकेशन जारी होगा. 9 नवंबर को वोटिंग होगी.

हिमाचल चुनाव में वोटों की गिनती 18 दिसंबर को होगी.

हर मशीन से वोट देने के बाद पर्ची निकलेगी.

हर उम्मीदवार के लिए हलफनामा में सभी कॉलम भरने जरूरी. हलफनामा पूरा न भरने पर नोटिस जारी होगा.

हर उम्मीदवार प्रचार में 28 लाख खर्च कर सकता है.

फोटो वोटर आईडी का इस्तेमाल होगा.

सभी पोलिंग स्टेशन ग्राउंड फ्लोर पर होंगे.

सभी पोलिंग स्टेशन पर वीवीपैट का इस्तेमाल होगा.

हिमाचल प्रदेश में आज से आचार संहिता लागू.

हिमाचल प्रदेश में हैं 7521 पोलिंग स्टेशन.

केंद्रीय सुरक्षाबलों की तैनाती अडवांस में होगी.

सभी पोलिंग स्टेशन, रैलियों की वीडियोग्राफी होगी.

हिमाचल प्रदेश में 68 विधानसभा सीटों पर चुनाव होगा, यहां अभी कांग्रेस की सरकार है, वीरभद्र सिंह 6 बार सीएम रहे.

वीवीपैटः पहली बार किसी राज्य में वीवीपैट का इस्तेमाल

एक्सपेंडीचर ऑब्जर्वर की भी तैनाती होगी.

वीवीपैट मशीन की स्क्रीन का साइज 10 सेंटीमीटर चौड़ा और 5.6 सेंटीमीटर लंबा होगा. इससे वोटर अपने वोट को वेरिफाई कर सकेंगे.

वोटिंग कंपार्टमेंट की हाइट बढ़ाकर 30 इंच की जाएगी.

हिमाचल भौगोलिक दृष्टि से छोटा राज्य है लेकिन कांग्रेस अगर इसे गंवाती है तो उसके पास सिर्फ पंजाब के अलावा कर्नाटक ही ऐसा अहम राज्य बचेगा जहां अकेले दम पर पार्टी की सत्ता है. हिमाचल में पार्टी के सीएम वीरभद्र सिंह भी हाल में कांग्रेस विरोधी राय देते नजर आए थे. वीरभद्र पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगे हैं और इस मामले में उनकी कोर्ट में पेशी को पीएम मोदी भी मुद्दा बना चुके हैं. राज्य में अपराध को लेकर भी कांग्रेस सरकार घिरती रही है.