औरंगाबादः महाराष्ट्र के बीड की 29 वर्षीय महिला कॉन्स्टेबल लतिका साल्वे को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के हस्तक्षेप के बाद सेक्स चेंज को लेकर होने वाले ऑपरेशन के लिए छुट्टी मिल गई है. हाल ही में साल्वे ने मुख्यमंत्री से मुलाकात कर अपना एप्लीकेशन सौंपा था. मुख्यमंत्री ने पुष्टी की है कि उन्होंने डायरेक्टर जनरल पुलिस (डीजीपी) को छुट्टी देने के निर्देश दिए हैं.

लतिका साल्वे ने बताया कि उन्होंने सीएम से मुलाकात की और छुट्टी के लिए एप्लीकेशन दिया. उन्होंने मुझे आश्वासन दिया है कि इस लेटर को डीजीपी ऑफिस भेजा जाएगा और छुट्टी मिल जाएगी. उन्होंने बताया कि वह पिछले 9 महीने से छुट्टी के लिए ऑफिस के चक्कर काट रही हैं. मुझे खुशी है कि सीएम सर ने मेरा एप्लीकेशन स्वीकार कर लिया. मुझे बहुत रिलैक्स महसूस हो रहा है. उन्होंने बताया कि अब मैं पुलिस डिपार्टमेंट की ओर से छुट्टी मिलने का इंतजार कर रही हूं.

वहीं महाराष्ट्र के डीजीपी सतीश माथुर का कहना है कि हम देखेंगे कि सीएम ऑफिस की ओर से किसी तरह का डायरेक्शन मिला है कि नहीं. हमें इस बारे में कोई जानकारी नहीं है क्योंकि डीजीपी ऑफिस 4 दिन बंद था. गौरतलब है कि साल्वे ने सेक्स चेंज कराने के लिए जुलाई 2017 में अर्जी दी थी लेकिन उन्हें छुट्टी नहीं मिली. इसके बाद उन्होंने हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया.

सेक्स चेंज करवाने का फैसला हालांकि व्यक्तिगत होता है लेकिन महिला के पुलिस विभाग से जुड़े होने की वजह से इस फैसले ने विभाग के लिए मुश्किल खड़ी कर दी थी. महिला कॉन्सटेबल का कहना है कि उसे महिला के रूप में रहने में दिक्कत हो रही है. साल्वी ने 2009 में महाराष्ट्र पुलिस जॉइन की थी.

मजालगांव में पोस्टेड साल्वी ने अपने अधिकारियों को बताया कि उन्हें ‘जेंडर आइडेंटिटी डिसऑर्डर’ है. साल्वी के साथ काम करने वाली एक कॉन्स्टेबल ने बताया, ‘वह बीते चार साल से अपने लेटर्स में यह बात कह रही है. साल्वी ने अपनी शारीरिक बनावट में ऐसे बदलाव महसूस किए जो सिर्फ पुरुषों में होते हैं. इसके बाद उसे लगा कि वह एक पुरुष के रूप में ज्यादा सहज है.