बांद्रा. महाराष्ट्र के बांद्रा जिले में एक 21 साल की लड़की ने बाघ के हमले की कहानी सोशल साइट्स पर बयान की है. घायल लड़की ने खून से लथपथ सेल्फी भी पोस्ट की है. उसने उस रात की पूरी दास्तां भी बताई है. इसके बाद से उसका ये पोस्ट सोशल साइट्स पर खूब वायरल हो रहा है.

कॉमर्स से ग्रेजुएट रुपाली मेशरम बांद्रा जिले के उसगांव में रहती है. घटना 24 मार्च की रात 12.30 से 1 बजे की है. रुपाली के मुताबिक, ‘रात में बाघ ने हमारे घर पर हमला किया. उसने हमारी एक बकरी और उसके दो बच्चे को मार दिया. बकरी के चीखने की आवाज सुन मैंने दरवाजा खोला.’ रुपाली के मुताबिक, ‘जब मैंने दरवाजा खोला तो बाघ ने मुझपर भी हमला कर दिया. इस बीच वहां मेरी मां पहुंची तो वह भी घायल हो गईं. हम अभी सरकारी अस्पताल भांद्रा में भर्ती हैं.

रुपाली ने आग्रह किया, ‘आप ये न्यूज सबको बताएंगे तो शायद फॉरेस्ट डिपार्टमेंट वाले हमारे साथ जो नुकसान हुआ है उसे भर कर दे देंगे. प्लीज दोस्तों से घटना सबको बताओ.’

बता दें कि बाघ के हमले से रुपाली काफी ज्यादा घायल हुई है. उसके सिर, पैर और कमर में गंभीर चोटें आईं हैं. रुपाली का कहना है कि उसे वन विभाग की तरफ से किसी तरह की मदद नहीं मिली है. उसकी मां ने अपने गहने बेच कर उसका इलाज कराया है.

भांद्रा वन के उप संरक्षक विवेक होशिंदे ने रुपाली के आरोप को खारिज कर दिया है. उन्होंने बाघ के हमले की बात से इनकार कर दिया है. उन्होंने कहा कि आस-पास के इलाके में तेंदुए के पैरों के निशान मिले हैं. हालांकि, उन्होंने बाघ के होने से साफ तौर पर इनकार कर दिया.