कोलकाता: अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम पर सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय के बाद देश भर में दलित संगठनों के विरोध प्रदर्शन के दौरान फैली हिंसा पर चिंता जाहिर करते हुए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सोमवार को इस मुद्दे पर अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति (एससी/एसटी) समुदायों का समर्थन करते हुए उनसे शांति की अपील की.

ममता बनर्जी ने ट्वीट करते हुए कहा, “हम अचंभित हैं और दुखी हैं कि मेरे कुछ दलित भाई और बहन मारे गए हैं और घायल हुए हैं. इस मुद्दे पर हम उनके साथ हैं. मैं शांति की अपील करती हूं.” पंजाब, राजस्थान, झारखंड, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, बिहार और ओडिशा में प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच संघर्ष हुआ है. हिंसा और आगजनी की घटनाओं के बाद सामान्य जनजीवन रुक सा गया है.

मध्य प्रदेश में हालात सबसे बदतर हैं जहां तीन लोगों की मौत हो गई है और दर्जनों लोग घायल हो गए हैं. इस कारण प्रशासन को कई स्थानों पर कर्फ्यू लगाना पड़ा है. केंद्र सरकार ने आक्रोशित दलितों को शांत करने की कोशिश करते हुए कहा कि सरकार ने सर्वोच्च न्यायालय में एक याचिका दायर की है जिसमें न्यायालय से 20 मार्च के आदेश की समीक्षा करने के लिए आग्रह किया गया है.