नई दिल्ली। फेसबुक डेटा चोरी मामले में सरकार ने आज सख्त कदम उठाते हुए फेसबुक को नोटिस जारी किया है. सरकार ने डेटा चोरी मामले में फेसबुक से सात अप्रैल तक जवाब देने को कहा है. संचार एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने फेसबुक को ये नोटिस जारी किया है. इससे पहले सरकार कैम्ब्रिज एनालिटिका को भी नोटिस भेज चुकी है.

इस नोटिस में मंत्रालय ने पूछा है, क्या कैम्ब्रिज एनालिटिका ने भारतीय वोटर्स और यूजर्स का पर्सनल डेटा चोरी हुआ है? क्या किसी कंपनी द्वारा फेसबुक डेटा का भारतीय चुनाव प्रक्रिया को प्रभावित करने में भी इस्तेमाल हुआ है? संचार और सूचना तकनीक मंत्रालय ने इन सवालों का जवाब देने के लिए फेसबुक को 7 अप्रैल 2018 तक का वक्त दिया है.

इससे पहले 23 मार्च को सरकार ने कैम्ब्रिज एनालिटिका को नोटस भेजकर डेटा चोरी से संबंधित विस्तृत रिपोर्ट मांगी थी. कैम्ब्रिज एनालिटिका पर अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव के दौरान डोनाल्ड ट्रंप को फायदा पहुंचाने का आरोप है. अब ऐसे ही आरोप भारत के संदर्भ में भी लग रहे हैं कि इस कंपनी ने भारत में हुए कई चुनावों में इसी तरह से काम किया था.

डेटा चोरी: यूजर्स की प्राइवेसी सेफ रखने के लिए Facebook ने किया नए कदमों का ऐलान

डेटा चोरी: यूजर्स की प्राइवेसी सेफ रखने के लिए Facebook ने किया नए कदमों का ऐलान

बीजेपी-कांग्रेस में वॉर

डाटा चोरी पर बीजेपी-कांग्रेस में युद्ध छिड़ा हुआ है. बीजेपी ने आरोप लगाया कि कैंब्रिज एनालिटिका ने चुनावों में कांग्रेस के लिए भी काम किया. कांग्रेस ने इसे खारिज करते हुए बीजेपी पर सवाल दागा कि नमो एप के जरिए लोगों का डेटा चोरी किया जा रहा है. कांग्रेस ने इस मामले में बीजेपी को एक्शन लेने और एफआईआर दर्ज करने की भी चुनौती दी. वहीं, मंगलवार को ब्रिटिश संसद में कंपनी के पूर्व कर्मचारी क्रिस्टोफर वाइली ने खुलासा किया कि कैंब्रिज एनालिटिका का दफ्तर भारत में भी है और इसने कई प्रोजेक्ट पर काम किया है. उसने ये भी कहा कि शायद कंपनी ने कांग्रेस के लिए भी काम किया था. इस बीच आज भारत सरकार ने फेसबुक को नोटिस जारी कर 7 अप्रैल तक जवाब मांगा है.

भारत सहित पूरे विश्व में भी इसे लेकर तीखी प्रतिक्रिया आई. डाटा चोरी पर फेसबुक के सर्वेसर्वा मार्क जकरबर्ग को माफी तक मांगनी पड़ी. उन्होंने अखबारों में विज्ञापन देकर भी गलती के लिए माफी मांगी. जकरबर्ग ने कहा कि इस तरह की गलतियों की अपेक्षा लोग हमसे नहीं कर सकते. हमसे गलती हुई है और इसके लिए माफी चाहते हैं.