नई दिल्ली. पीएम नरेंद्र मोदी को चाहने वाले दुनिया भर में है और इसकी एक नजीर मनीला में भी दिखाई दी. मोदी फिलीपींस की राजधानी मनीला में 31वें आसियान शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने पहुंचे थे. वह वहां रह रहे भारतीयों से मिले. बड़ी संख्या में प्रवासी भारतीय मोदी को देखने और सुनने के लिए पहुंचे थे. मोदी ने भारतीयों को संबोधित करते हुए कहा कि हमारी सरकार का निरंतर प्रयास है कि हम भारत को विकास की ऊंचाइयों पर ले जाएं, ताकि हम विश्व की बराबरी कर सकें.

मोदी के भाषण पर लोगों ने तालियां बजाई लेकिन यहां एक और वाक्या हुआ जिसने सभी का ध्यान खींच लिया. पीएम मोदी जब कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे तो उनके सम्मान में एक युवती ने कविता पाठ किया. कविता पाठ के बाद वह मोदी के चरणों में झुककर उन्हें प्रणाम करने लगी. जवाब में मोदी ने भी झुककर उसे नमस्कार किया. यह देखकर वहां के लोग मोदी-मोदी के नारे लगाने लगे.

मोदी के सामने मंच से यह कविता खंडवा की रहने वाली युवती कुणाल भंडारी थी. पीएम ने खुद इस युवती को मंच से काव्य पाठ का अवसर दिया था. मंच से लड़की ने रचना ‘हृदय के खोल दिए हैं द्वार, आपका स्वागत बारंबार’ सुनाई. इसके अलावा समारोह में फिलीपींस में कई कलाकारों ने प्रस्तुति दी. पूरा वाकया वीडियो में देखें…