नई दिल्लीः बिहार के हाजीपुर में केंद्रीय शिक्षा राज्यमंत्री और आरएलएसपी के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा के साथ बदसलूकी का मामला सामने आया है. उपेंद्रे कुशवाहा के साथ हाजीपुर के सुभई के नजदीक लोमा गांव में बदसलूकी की गई. लोगों ने कुशवाहा के साथ मारपीट की कोशिश की. बताया जा रहा है कि ये लोग आरक्षण विरोधी मोर्चा के समर्थक थे. मंगलवार को आरक्षण के विरोध में कथित रूप से भारत बंद का ऐलान किया गया था. इसके तहत कुछ लोग मोर्चा बनाकर प्रदर्शन कर रहे थे. उपेंद्र कुशवाहा के साथ बदसलूकी की घटना की पुष्टि आरएलसपी के प्रदेश महासचिव नागेश्वर राय ने की है.

केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा मोतिहारी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यक्रम में शामिल होने जा रहे थे. इस दौरान जब वह हाजीपुर से गुजर रहे थे. तभी सुभई के निकट लोमा गांव में कुछ लोगों ने उनकी गाड़ी रोक दी. केंद्रीय मंत्री की गाड़ी को रोकने वाले लोग आरक्षण विरोधी मोर्चा के समर्थक थे. उन्होंने कुशवाहा के साथ बदसलूकी की और उनके साथ हाथापाई करने की भी कोशिश की. इन लोगों ने मंत्री के साथ गाली-गलौज भी की.

इसके अलावा उपेंद्र कुशवाहा को आरक्षण समर्थक और जातिवादी बताकर अपमानित किया गया. इस घटना में काफी हंगामा हुआ इस वजह से उपेंद्र कुशवाहा पीएम मोदी के कार्यक्रम में भी नहीं पहुंच सके.

इस घटना के बाद आरएलएसपी नेता राजेश यादव ने कड़ी निंदा की है. उन्होंने कहा कि केंद्रीय मंत्री को अपमानित करने वाले लोग सामंती और जातिवादी मानसिकता के शिकार हैं. उन्होंने कहा कि आरएलएसपी आरक्षण के समर्थन और भागीदारी की लड़ाई लड़ती रहेगी. सामाजित न्याय की राह पर चलने से रालोसपा को कोई रोक नहीं सकता.

गौरतलब है कि मंगलवार को आरक्षण के विरोध में कुछ लोगों ने कथित तौर पर भारत बंद रखा. देश के कुछ इलाकों में इसका असर देखने को भी मिला. बिहार में भी बंद समर्थकों ने जमकर तोड़फोड़ की. नारेबाजी करते हुए कई गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया.