नई दिल्ली। 11400 करोड़ के पीएनबी घोटाले के मुख्य आरोपी नीरव मोदी के ठिकानों पर छापेमारी के दौरान प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने 5,100 करोड़ रुपये मूल्य के हीरे, आभूषण और सोना जब्त किया है. अधिकारियों ने बताया कि नीरव मोदी मामले में ईडी ने मुंबई में छह संपत्तियों को सील किया है. घोटाले के सामने आने के बाद ईडी ने नीरव मोदी और गीतांजलि जेम्स के कुल 17 परिसरों पर छापेमारी की.

आभूषण डिजाइनर नीरव मोदी और कुछ अन्य के खिलाफ 280 करोड़ रुपये के मनी लांड्रिंग के आरोपों की जांच के सिलसिले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मुंबई, दिल्ली और गुजरात में छापेमारी में 5,100 करोड़ रुपये के हीरे, सोने के आभूषण जब्त किए. यह कार्रवाई पंजाब नेशनल बैंक की शिकायत पर की गई है. एजेंसी ने मोदी, उनकी पत्नी एमी, भाई निशाल और कारोबारी भागीदार मेहुल चौकसी के खिलाफ मनी लांड्रिंग का मामला दर्ज किया था.

प्रवर्तन निदेशालय के एक अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि एजेंसी ने मोदी और अन्य आरोपियों की मुंबई में पांच संपत्तियां सील की हैं. अब निदेशालय मोदी के पासपोर्ट रद्द करने के लिए विदेश मंत्रालय से संपर्क करने की तैयारी कर रहा है. आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि तड़के शुरू हुई कार्रवाई में मुंबई, गुजरात और दिल्ली में कम से कम दस जगह छापे डाले गए.

प्रवर्तन निदशालय के अधिकारियों ने जिन जगहों पर यह कार्रवाई की, उनमें मोदी का मुंबई के कुर्ला इलाके का घर, काला घोड़ा इलाके की डिजाइनर आभूषणों की दुकान, बांद्रा और लोअर परेल इलाके में कंपनी के तीन ठिकाने, गुजरात के सूरत में तीन ठिकाने और दिल्ली के डिफेंस कालोनी और चाणक्यपुरी इलाके में मोदी के शो-रूम शामिल हैं. 

इन ठिकानों से कुछ दस्तावेज भी सील किए गए हैं जिनकी जांच की जाएगी. इसके अलावा ईडी ने नीरव के खाते में 3.9 करोड़ रुपये और फिक्स डिपॉजिट भी जब्त कर दिया है. इस बीच ईडी ने विदेश मंत्रालय को पत्र लिखकर नीरव मोदी, उसकी पत्नी अनि मोदी और मेहुल चोकसी का पासपोर्ट रद्द करने की मांग की है.

पीएनबी ने दी सफाई  

पीएनबी घोटाले को लेकर पंजाब नेशनल बैंक ने सामने आकर सफाई दी. बैंक ने कहा कि वह 11,400 करोड़ रुपये के नीरव मोदी घोटाले में हरसंभव कार्रवाई करेगा. इस घोटाले की शुरुआत 2011 में हुई थी. बैंक ने पहले कहा था कि उसने 1.77 अरब डॉलर या 11,400 करोड़ रुपये का घोटाला पकड़ा है. इस मामले में फोर्ब्स की सूची में शामिल रहे आभूषण कारोबारी नीरव मोदी ने कथित रूप से उसकी मुंबई की शाखा से धोखाधड़ी वाले गारंटी पत्र (एलओयू) हासिल किए थे. इन एलओयू के जरिए अन्य भारतीय बैंकों से विदेशों में कर्ज लिया गया था.

ये भी पढ़ें- पीएनबी घोटाले में बीजेपी की सफाई- नीरव मोदी खुद गया था दावोस, पासपोर्ट करेंगे रद्द

पीएनबी ने इस मामले में 10 अधिकारियों को निलंबित कर दिया है और मामले को सीबीआई के पास जांच के लिए भेज दिया है. प्रसिद्ध ज्वेलरी डिजाइनर के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय ने विभिन्न स्थानों पर छापेमारी शुरू कर दी है. पीएनबी के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक सुनील मेहता ने कहा कि पिछले 123 सालों में हमने काफी उतार-चढ़ाव देखा है. बैंक गड़बड़ी करने के खिलाफ पूरी क्षमता से कार्रवाई की जाएगी और उन्हें सजा दिलाई जाएगी. उन्होंने कहा कि यह धोखाधड़ी 2011 में शुरू हुई. हमारे बैंक ने ही इसे पकड़ा और विधि प्रवर्तन एजेंसियों को इसकी जानकारी दी. पीएनबी साफसुथरी बैंकिंग नीति को लेकर प्रतिबद्ध है. यही वजह है कि हमने इसे सबसे पहले पकड़ा तथा प्रवर्तन एजेंसियों को इसकी सूचना दी.

1 जनवरी को देश छोड़कर गया नीरव मोदी 

नीरव मोदी बैंक की ओर से इस मामले में शिकायत मिलने से काफी दिन पहले यानि एक जनवरी 2018 को ही देश से बाहर चला गया था. अधिकारियों ने यह जानकारी दी. अधिकारियों का कहना है कि पीएनबी ने 280 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के बारे में 29 जनवरी को केंद्रीय जांच ब्यूरो सीबीआई को शिकायत की थी. अधिकारियों का कहना है कि नीरव का भाई निशाल बेल्जियम का नागरिक है. वह भी एक जनवरी को देश छोड़ कर चला गया. उसकी पत्नी और अमेरिकी नागरिक अनि और गीतांजलि जूलरी स्टोर सीरीज चलाने वाली फर्म में भागीदार मेहुल चोकसी छह जनवरी को देश से बाहर चले गए.
ये भी पढ़ें- दो दिन में 21 फीसदी गिरा PNB का शेयर, 8000 करोड़ स्वाहा

उन्होंने कहा कि इस मामले में पहली एफआईआर दर्ज करने के बाद एजेंसी ने इन चारों के खिलाफ लुक आउट नोटिस जारी किया था ताकि देश से बाहर जाने आने के रास्तों पर इनकी की जा सके. ऐसा माना जा रहा है कि नीरव मोदी स्विटजरलैंड में हैं. वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ दावोस (स्विट्जरलैंड) में नामी भारतीय कंपनियों के सीईओ के समूह के साथ फोटो में शामिल थे. वर्ल्ड इकोनामिक फोरम के सम्मेलन की इस फोटो को 23 जनवरी प्रेस सूचना ब्यूरो ने जारी किया था. इसके छह दिन बाद ही पंजाब नेशनल बैंक ने उनके खिलाफ पहली शिकायत जारी की.

कौन-कौन हैं आरोपी ?

इस मामले में पहला आरोपी हीरा व्यापारी नीरव मोदी है. नीरव एक जनवरी को ही देश छोड़कर चला गया था. दूसरा आरोपी निशाल मोदी है. ये नीरव मोदी का भाई है. बेल्जियम का नागरिक है. ये भी एक जनवरी को देश से चला गया. तीसरी आरोपी नीरव मोदी की पत्नी अनि मोदी हैं और ये अमेरिका की नागरिक हैं. अनि छह जनवरी को भारत से चली गईं थी. गीतांजलि जेम्स के प्रमोटर नीरव के मामा मेहुल चौकसी इस मामले में चौथे आरोपी हैं पर इस समय ये भी देश में नहीं है. पांचवां आरोपी गोकुलनाथ शेट्टी है. ये पीएनबी के डिप्टी मैनजर (रिटा) है. ये कहां है पता नहीं. छठा आरोपी पीएनबी का एक और अधिकारी है. इसकी भी कोई जानकारी नहीं है कि वो कहां है

(भाषा इनपुट)