नई दिल्ली| वायु सेना प्रमुख बीएस धनोआ ने सभी 12000 अधिकारियों को पत्र लिखकर किसी भी समय युद्ध जैसी परिस्थिति से निपटने के लिए तैयार रहने को कहा है. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक पत्र ऐसे समय लिखा गया है जब कूटनीतिक और सामरिक मोर्चे पर पाकिस्तान के साथ तनाव जारी है. इस पत्र में कहा गया है कि वर्तमान हालात के मद्देनजर वे शॉर्ट नोटिस पर किसी भी ऑपरेशन के लिए तैयार रहें.

मीडिया खबरों के अनुसार यह लेटर 30 मार्च को लिखा गया था. इस पर वायुसेना प्रमुख धनोआ के हस्ताक्षर भी हैं. लेटर में भाई-भतीजावाद से लेकर यौन उत्पीड़न समेत विभिन्न मुद्दों का जिक्र है. ऐसा पहली बार है, जब किसी वायुसेना प्रमुख ने सभी अफसरों को लेटर लिखा है. इससे पहले, दो सेना प्रमुखों फील्ड मार्शल (तत्कालीन जनरल) केएम करियप्पा ने 1 मई 1950 और जनरल के सुंदरजी ने 1 फरवरी 1986 को इस तरह के खत लिखे थे.

वायुसेना प्रमुख धनोआ ने अपने पत्र में अफसरों से कहा, मौजूदा हालात में, हमेशा से जारी खतरे की आशंका बढ़ गई है. पत्र में वायुसेना के कम संसाधनों का भी जिक्र किया गया है और कहा गया कि हमें मौजूदा संसाधनों के साथ ही बेहद शॉर्ट नोटिस पर बड़े अभियान के लिए तैयार रहने की ज़रूरत है. इसके साथ ही इसमें उन्होंने लिखा कि हमारा ट्रेनिंग प्रोग्राम इसे ही ध्यान में रखकर चलाया जाना चाहिए.

माना जा रहा है कि धनोआ ने मौजूदा हालात की जो बात कही है वह पाकिस्तान की तरफ से छिप-छिपकर हो रहे हमले के लिए कही है. पत्र में धनोआ ने वायुसेना के भीतर ‘पक्षपात’ और ‘यौन शोषण’ के बढ़ते मामलों का भी ज़िक्र किया है.

पत्र में इस बात का भी जिक्र है कि एयर फोर्स ने पिछले कुछ वक्त में किन्हीं मौकों पर खास प्रदर्शन नहीं दिखाया. एयरफोर्स फाइटर प्लेन के 42 स्काड्रन अपने पास रख सकता है लेकिन फिलहाल उसके पास कुल 33 स्कवाड्रन ही हैं.

धनोआ ने अपने लिखे पत्र में अपने प्रमोशन के दौरान सीनियर्स के खराब बर्ताव और शारीरिक शोषण पर भी अपने विचार रखे. धनोवा ने लिखा है कि इसको बर्दाशत नहीं किया जाएगा.