रायपुर| छत्तीसगढ़ में सूखे की स्थिति को देखते हुए राज्य सरकार ने राज्य के प्रत्येक गांव में एक-एक क्विंटल चावल हमेशा उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है. आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि राज्य शासन ने मुख्यमंत्री रमन सिंह के निर्देश पर राज्य में किसी भी व्यक्ति की मृत्यु भूख से न हो, इसे सुनिश्चित करने के लिए प्रत्येक ग्राम पंचायत में एक क्विंटल चावल की व्यवस्था अनिवार्य रूप से रखने का निर्देश दिया है.

अधिकारियों ने बताया कि यह निर्णय इस वर्ष राज्य में वर्षा नहीं होने के कारण उत्पन्न सूखे की स्थिति से निपटने के लिए इस महीने की 12 तारीख को मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में आयोजित राज्य मंत्री परिषद की बैठक में लिया गया.

इस संबंध में आदेश पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग द्वारा जारी कर दिया गया है. इसके तहत विभाग के अपर मुख्य सचिव एम.के. राउत ने राज्य के सभी जिला कलेक्टरों और जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों को आदेश का अनिवार्य रूप से पालन सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है.

जारी आदेश में कहा गया है कि जरूरत मंद व्यक्तियों के लिए उचित मात्रा में निःशुल्क खाद्यान की व्यवस्था रहे. इसके अंतर्गत यह सुनिश्चित किया जाए की प्रत्येक ग्राम में कम से कम एक क्विंटल चावल सदैव उपलब्ध रहे.

यह भी निर्देशित किया गया है कि किसी जरूरत मंद व्यक्ति को आनाज उपलब्ध कराने की स्थिति निर्मित होती है तब उसे सरपंच, उपसरपंच अथवा संबंधित ग्राम के वार्ड के पंच के प्रमाणीकरण के आधार पर तत्काल पांच किलों आनाज निःशुल्क उपलब्ध कराने की व्यवस्था की जाए.

आदेश में कहा गया है कि अनाज के भंडारण के बारे में सम्पूर्ण जानकारी ग्रामवासियों को समय-समय पर आयोजित होने वाली ग्राम सभा में अनिवार्य रूप से दी जाए. छत्तीसगढ़ में कम बारिश के बाद 21 जिलों की 96 तहसीलों को सूखा ग्रस्त घोषित कर दिया गया है.