नई दिल्ली| भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के बेटे जय शाह की कंपनी का मुनाफा कथित तौर पर 16,000 गुना बढ़ने के वेबसाइट ‘द वायर’ के खुलासे के बाद राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का मानना है कि मामले की जांच होनी चाहिए लेकिन आरोप लगाने वालों को आरोपों को सिद्ध भी करना चाहिए. मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में गुरुवार से शुरू हो रही तीन दिवसीय अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल बैठक से पहले संघ के सह सरकार्यवाहक दत्तात्रेय होसबाले ने बताया, “किसी भी भ्रष्टाचार के आरोपों की आवश्यक जांच होनी चाहिए.”

होसबाले ने कहा कि प्रथम दृष्टया आरोपों के सिद्ध होने पर ही कार्रवाई हो सकती है. उससे पहले आरोप लगाने वालों को इन्हें सिद्ध करना चाहिए.

होसबाले ने नोटबंदी और जीएसटी के मसले पर कहा कि लोगों ने इन्हें स्वीकार कर लिया है और आने वाले समय में इनके सकारात्मक नतीजे सामने आएंगे.

अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की तीन दिवसीय बैठक 12 से 14 अक्टूबर तक भोपाल के केरवा डेम क्षेत्र में शारदा विहार आवासीय विद्यालय में होगी. इस बैठक में संघ की बीते छह माह की गतिविधियों, आगामी कार्ययोजना और देश के वर्तमान हालात पर चर्चा होगी.