अलप्पुझा (केरल): गुजरात के बहुचर्चित इशरत जहां मामले के एक याचिकाकर्ता की शुक्रवार को केरल के अलप्पुणा में एक सड़क दुर्घटना में मौत हो गई. केरल पुलिस ने जांच शुरू कर दी है. एम.आर. गोपीनाथन पिल्लई अपनी कार से जा रहे थे, और अचानक उनकी कार एक लॉरी से टकराकर दुर्घटनाग्रस्त हो गई, जिसमें उनकी मौत हो गई.पट्टनक्कड़ थाने के एक अधिकारी ने कहा, “पिल्लई स्वास्थ्य परीक्षण के लिए अस्पताल जा रहे थे, जब यह दुर्घटना हुई.”

नाम गोपनीय रखने की शर्त पर एक अधिकारी ने कहा, “हम कोई मौका नहीं छोड़ेंगे और दुर्घटना के सभी पहलुओं की जांच हो रही है.” पिल्लई, जावेद गुलाम शेख उर्फ प्रणेश कुमार पिल्लई के पिता थे. जून 2004 में अहमदाबाद के बाहरी इलाके में गुजरात पुलिस ने इशरत जहां के साथ जिन अन्य दो लोगों को मार गिराया था, उसमें जावेद भी शामिल था. अधिकारी ने कहा, दुर्घटना पर अभी कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी. प्राथमिकी दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है.
विशेष जांच दल ने साल 2011 में गुजरात हाईकोर्ट में पिल्लई के बेटे की मौत फर्जी मुठभेड़ में होने की जांच रिपोर्ट दाखिल की थी. इसके बाद 78 वर्षीय सेवानिवृत्त शिक्षक पिल्लई ने राहत की सांस ली थी. पिल्लई के बेटे प्रणेश कुमार पिल्लई ने अपना धर्म बदलकर जावेद गुलाम शेख रख लिया था. प्रणेश ने एक मुस्लिम महिला से शादी करने के लिए इस्लाम धर्म अपना लिया था.

गुजरात पुलिस ने आरोप लगाया था कि इशरत जहां और तीन अन्य लोग आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के सदस्य थे और गुजरात के तत्कालीन सीएम नरेंद्र मोदी को मारने के लिए आए थे. पुलिस का दावा था कि ये संदिग्ध आतंकी 2002 के गुजरात दंगों का बदला लेना चाह रहे थे, जिसमें सैकड़ों मुस्लिमों समुदाय के लोगों की हत्या हुई थी. (इनपुट एजेंसी)