नई दिल्ली। कठुआ और उन्नाव गैंगरेप को लेकर आज पहली बार पीएम नरेंद्र मोदी ने अपनी चुप्पी तोड़ी. दिल्ली के अलीपुर रोड में आंबेडकर नेशनल मेमोरियल के उद्घाटन के दौरान अपने भाषण में पीएम ने दोनों घटनाओं पर दुख जताते हुए कहा कि इंसाफ मिलकर रहेगा. पीएम मोदी की चुप्पी पर विपक्ष की ओर से लगातार सवाल उठाए जा रहे थे.

कठुआ और उन्नाव की घटनाओं की ओर इशारा करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि पिछले दो दिन की घटनाएं देश के लिए शर्मसार हैं. मैं देश को विश्वास दिलाना चाहता हूं कि गुनहगारों को सजा मिलेगी. बेटियों को न्याय मिलकर रहेगा. न्याय पूरा होगा और मिलकर रहेगा. गुनहगारों को सजा देना हमारी जिम्मेदारी है. लेकिन समाज को भी मिलकर इस पर सोचना होगा कि ऐसा क्यों हो रहा है.

2014 में मेरा पहला भाषण लाल किले से था. मैंने लाल किले से बोलने का साहस किया था कि देर से आने पर लड़की से नहीं, लड़कों से पूछो कि इतनी देर कहां थे क्योंकि जो ऐसे जघन्य अपराध करता है, वह किसी न किसी का बेटा होता है . हमें पारिवारिक व्यवस्था, सामाजिक मूल्यों से लेकर न्याय व्यवस्था तक, सभी को इसके लिए मजबूत करना होगा, तभी हम बाबा साहेब के सपनों का भारत बना पाएंगे, न्यू इंडिया बना पाएंगे.

कांग्रेस पर निशाना

इस दौरान पीएम ने बाबा साहेब आंबेडकर के मुद्दे पर कांग्रेस को निशाने पर लिया. पीएम ने कहा, मैं कांग्रेस को चैलेंज करता हूं कि वह एक काम बताए जो उसने बाबा साहेब के सम्मान के लिए किया हो. कांग्रेस ने देश के इतिहास से बाबा साहेब का नाम मिटाने के लिए अपनी ताकत दिखाई. जब तक वह जीवित थे कांग्रेस ने उन्हें अपमानित करने का कोई मौका नहीं छोड़ा.

मोदी का पूरा भाषण

लोकतंत्र में जब जनता आपसे जवाब मांगे उससे पहले ही आप तैयार रहें, मगर पिछली सरकारों ने इसका कोई पालन नहीं किया था . हमारी सरकार में ऐसा नहीं है. पहले की सरकारों में बाबा साहब के लिए बने कई प्रोजेक्ट को फाइलों मे लटकाकर रखा. आजादी के बाद बाबा साहब ने ये कभी नही सोचा था कि प्रोजेक्ट को लटकाने अटकाने का काम होगा . मगर ऐसा हुआ है . आज लटकी परियोजनाओं को तेज गति से करने का काम किया जा रहा है . इस सरकार मे अभाव का रोना नहीं दिखेगा . हम अपने संसाधनों के जरिये आगे बढ़ने का काम कर रहे हैं.

पहले की सरकारें काम को पूरा करने की तारीखों का आगे बढ़ाती थीं मगर अब ऐसा नहीं है. इस सरकार में लक्ष्य को पूरा करने की तारीखों को एक दो साल कम कर दिया गया है हम सभी परियोजनाओं को समय से पहले पूरा करने की कोशिश करते हैं. आज की परियोजना में सामाजिक न्याय और सभी को समान स्तर से पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध हैं. आज के दौर में किसी के घर में बिजली नहीं होना भी एक अन्याय है.  पीएम सौभाग्य योजना के तहत बिजली फ्री दी जा रही है . मुद्रा योजना का लाभ भी लोगों को मिल रहा है . बिना बैंक गांरटी को लोन दिया जा रहा है. मुद्रा योजना के तहत 2 करोड 16 लाख दलित लाभार्यियों को इसका लाभ मिल रहा है .

45-से 50 लाख लोगों को हेल्थ इंशोरस दिया जा रहा है . दलितों पर अत्याचार रोकने के लिये हमने कड़े कानून बनाए हैं. अब दलितों को लेकर कड़े कानून बनाए हैं. हमारी सरकार ने दलितों के कानून में कोई बदलाव नहीं किया है . सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर कहा कि हमने तुरंत पुनर्विचार याचिका दाखिल की . मगर 6 दिन छुट्टी होने का कारण थोड़ी देर हुई थी . हमारी सरकार दलितों के अधिकार के लिए प्रतिबद्ध है . दलितों को जल्द न्याय मिले इसके लिये जल्द न्याय की व्यावस्था की है . क्रीमिलेयर को खत्म करने की मांग 24 साल से की जा रही थी जिसे हमने खत्म कर दिया है . हम बाबा साहब के सपनों का भारत बनाना चाहते हैं . हमने बाबा साहब की जंयती को भव्य तरीके से मनाया.

बाबा साहेब जब जीवित रहे और मरने का बाद भी उन्हें कांग्रेस पार्टी ने बदनाम किया है . बाबा साहेब और कांग्रेस के आखिरी दिनों की मैं बात करूं तो कहने के लिए बहुत कुछ है . बाबा साहेब को लेकर कांग्रेस का असली चेहरा आज की पीढ़ी को बताना है . ये देश की जनता तो जानना चाहिए कि काग्रेस पार्टी ने संविधान के रचियता को साथ कैसा व्यवहार किया था . बाबा साहब को लेकर कांग्रेस की क्या सोच थी . ये 70 साल पहले की है . काग्रेस पार्टी ने बाबा साहेब को ऐसा मंत्रालय दिया जिसमें कोई ज्यादा काम नहीं था .

काग्रेस पार्टी ओबीसी कमिशन को पास नहीं होने दे रही है . उसमें भी कांग्रेस पार्टी अड़गा लगा रही है . कानून मंत्री बनाने के बाद कांग्रेस पार्टी ने बाबा साहब के साथ कैसा बर्ताव किया ये देश को जानना चाहिए . मगर 70 सालों से कांग्रेस पार्टी एक परिवार की पार्टी बन कर रह गई है. जिसने कांग्रेस का विरोध किया उनकों किताबों तक में जगह नही दी गई थी . नेहरू ने बाबा साहब को अपमानित करने का काम किया है . बाबा साहब की सहायता श्यामाप्रसाद मुखर्जी ने किया था औऱ उनको उनका सम्मान दिलाया था . काग्रेस पार्टी ने सिर्फ बाबा साहेब के नाम का प्रयोग किया था. कांग्रेस को बाबा साहेब के नाम में वोट बैंक नजर आता है. एक परिवार की सेवा करने दिल पर पत्थर रखकर बाबा साहेब का नाम ले रही है . हर चुनाव से पहले कांग्रेस पार्टी भ्रम फैला रही है. दलितों के बीच भ्रम फैलाने का काम कांग्रेस पार्टी कर रही है. कल से एक नए अध्याय की शुरुआत करने जा रहे हैं. पिछले दो दिन से जो घटनाएं हो रही हैं उस पर राजनीति करना शर्मनाक है. कोई अपराधी बचेगा नहीं उसके साथ न्याय होगा.