ईटानगर. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अरुणाचल प्रदेश की राजधानी ईटानगर में कई योजनाओं की शुरुआत की है. पीएम नरेंद्र मोदी ने ईटानगर दोरजी खांडू स्टेट कनवेंशन सेंटर का भी उद्घाटन किया है. इस मौके पर पीएम ने एक विशाल जनसभा को संबोधित किया. पीएम ने इस रैली में कांग्रेस को निशाने पर लिया और कहा कि आने वाले दिनों में यहां विकास का प्रकाश फैलेगा. 

Tripura Elections 2018: PM MOdi Addresses election rally in Sonamura | त्रिपुरा में बोले मोदी- ‘अब माणिक से मुक्ति ले लो, आपको ‘हीरा’ चाहिए’

Tripura Elections 2018: PM MOdi Addresses election rally in Sonamura | त्रिपुरा में बोले मोदी- ‘अब माणिक से मुक्ति ले लो, आपको ‘हीरा’ चाहिए’

मोदी ने कहा कि जिस अरुणाचल से प्रकाश फैलता है, आने वाले दिनों में भी यहां विकास का ऐसा प्रकाश फैलेगा कि पूरा देश देखेगा. उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य सेवा उच्च स्तर की होनी चाहिए और सभी की पहुंच में भी होनी चाहिए. हम देशभर में मेडिकल कॉलेज बनाने पर कार्य कर रहे हैं.

पीएम ने कांग्रेस पर परोक्ष रूप से निशाना साधते हुए कहा कि इस देश में पैसे की कमी नहीं है लेकिन अगर बाल्टी में छेद हो तो पानी भरेगा क्या? हमारे देश में पहले ऐसा ही चला है. उन्होंने कहा कि नॉर्थ ईस्ट काउंसिल मीटिंग में आखिरी बार शामिल हुए पीएम मोरारजी देसाई थे. इसके बाद किसी भी पीएम को इसमें शामिल होने का वक्त तक नहीं मिला. सभी बहुत व्यस्त रहे.

मोदी ने आगे कहा कि मैं इस बैठक के लिए यहां आया, वो भी आप सबकी वजह से. इसीलिए मैं यहां पर नॉर्थ ईस्ट काउंसिल मीटिंग के लिए आया. पीएम ने कहा कि नेता के पास वक्त नहीं होता है, इसलिए भारत में महीनों तक पुल बनकर खड़ा रहता है. पूरे हिंदुस्तान में जितनी बार आप ‘जय हिंद’ सुनोगे, उससे ज्यादा जय हिंद अरुणाचल में सुनने को मिलता है. 

नागालैंड चुनावः मतदान से दो सप्ताह पहले ही ये पूर्व सीएम बन गए विधायक

नागालैंड चुनावः मतदान से दो सप्ताह पहले ही ये पूर्व सीएम बन गए विधायक

अरुणाचल प्रदेश से मोदी त्रिपुरा रवाना हुए जहां वह शांति बाजार और अरगतला में दो चुनावी सभाओं को संबोधित करेंगे.

त्रिपुरा में लेफ्ट और बीजेपी की टक्कर
त्रिपुरा में 60 सदस्यीय विधानसभा में वामदलों के 49 सदस्य हैं जबकि कांग्रेस के 10 सदस्य हैं. साल 2013 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने 50 सीटों पर चुनाव लड़ा था हालांकि वह अनेक सीटों पर जमानत भी नहीं बचा सकी थी. इस चुनाव में सीपीएम को 48.11 प्रतिशत मत प्राप्त हुए थे जबकि कांग्रेस को 36.53 प्रतिशत वोट मिले. बीजेपी का मत प्रतिशत 1.54 रहा था. हालांकि इस बार चुनाव में टक्कर बीजेपी और सीपीएम के बीच बताई जा रही है. इसी वजह से पीएम मोदी पूर्वोत्तर में प्रचार अभियान के लिए जुटे हुए हैं.

51 सीटों पर चुनाव लड़ेगी बीजेपी
त्रिपुरा में बीजेपी 51 सीटों पर चुनाव लड़ रही है और 9 सीटें उसने सहयोगियों के लिए छोड़ी हैं. त्रिपुरा विधानसभा में सीटों की संख्या 60 है. त्रिपुरा में 18 फरवरी को विधानसभा चुनाव होंगे और 3 मार्च को परिणामों की घोषणा की जाएगी. 3 मार्च को त्रिपुरा विधानसभा चुनाव के नतीजों की घोषणा की जाएगी. 14 मार्च को विधानसभा का कार्यकाल समाप्त हो रहा है.