नई दिल्ली| प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को संसद भवन में आयोजित की गई सर्वदलीय बैठक में सभी नेताओं से भ्रष्ट नेताओं से दूर रहने और उन्हें बचाने की कोशिश न करने का आग्रह किया. मोदी की इस बात को राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) प्रमुख लालू प्रसाद और उनके परिजनों पर निशाना माना माना जा रहा है.

संसद के मानसून सत्र से एक दिन पहले उन्होंने सर्वदलीय बैठक में कहा कि भ्रष्ट गतिविधियों के कारण जनसेवा में लगे लोगों पर प्रश्न चिन्ह लगा है. इसे दुरुस्त करने के लिए सभी नेताओं को आगे आना होगा.

संसदीय कार्यमंत्री अनंत कुमार के अनुसार मोदी ने कहा कि मैं सभी नेताओं से भ्रष्ट राजनीतिज्ञों से दूर रहने का आग्रह करता हूं और साथ ही यह भी आग्रह करता हूं कि ऐसे भ्रष्ट लोगों को बचाने की कोशिश भी न करें. मोदी ने सभी नेताओं को भ्रष्ट नेताओं के खिलाफ जांच की कार्रवाई आगे बढ़ाने में मदद करने का आग्रह भी किया.

लालू प्रसाद और उनके बेटे एवं बिहार के डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने अपने खिलाफ लगे भ्रष्टाचार के आरोपों को खारिज करते हुए बीजेपी पर बदले की राजनीति करने का आरोप लगाया है.

मोदी का यह बयान ऐसे समय में आया है जब बिहार में नीतिश की जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) और लालू की आरजेडी संगठन की सरकार चला रहे हैं. लालू और उनका परिवार जिनमें उनकी पत्नी, बेटी और बेटे शामिल हैं बेनामी सम्पत्ति से जुड़े मामले में भ्रष्टाचार का अरोप झेल रहे हैं. ऐसे में नीतिश के ऊपर आरजेडी से गठबंधन खत्म करने का दबाव लगातार बढ़ता जा रहा है.
(एजेंसी से इनपुट)