नई दिल्लीः करीब 11500 करोड़ रुपये के घोटाले की बात सामने आने के बाद PNB ने देश को भरोसा दिलाया है कि वे किसी भी गलत काम को बढ़ावा नहीं देंगे.  PNB के प्रबंध निदेशक सुनील मेहता ने कहा कि बैंक के पास इस संकट से उबरने की क्षमता और ताकत है. उन्होंने कहा कि हमारी तरफ से दर्ज करवाई गई एफआईआर के आधार पर इस धोखाधड़ी में शामिल लोगों के यहां छापेमारी की जा रही है. दस्तावेज जब्त किए जा रहे हैं. उन्होंन कहा कि बैंक के वित्तीय हित को सुरक्षित करने के लिए ये कदम उठाए जा रहे हैं. मेहता ने कहा कि 2011 में मामला सामने आया था.  इस साल जनवरी के तीसरे हफ्ते में हमें  गड़बड़ी का पता चला. हमने तीन चार दिन गहन जांच की. 29 जनवरी को हम सीबीआई के पास गए और 30 जनवरी को इस मामले में केस दर्ज करवाया.

बैंक के ही दो कर्मचारियों का अवैध लेन-देन सामने आने के बाद बैंक ने उनके खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी. मेहता ने बताया कि पीएनबी किसी भी गलत काम को बढ़ावा नहीं देगा. बैंक ही इस घोटाले को सामने लेकर आया है. खाताधारकों का विश्‍वास बनाए रखने के लिए उन्‍होंने बताया कि यह अकेली घटना है. बैंक की केवल एक शाखा में ही घपला हुआ है. बैंक द्वारा एफआईआर दर्ज कराए जाने के बाद छापेमारियां हो रही हैं और दस्‍तावेज जब्‍त किए जा रहे हैं. बैंकों के वित्‍तीय हितों की सुरक्षा के लिए जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं.

मेहता ने कहा कि भारत सरकार इस मामले में हमारा सहयोग कर रही है और दोषियों को पकड़ने के लिए हमें पूरा सहयोग मिल रहा है. उन्होंने अपने ग्राहकों को भरोसा दिलाते हुए कहा कि बैंक कभी गलत काम को बर्दास्त नहीं करेगा. उन लोगों ने ही इस घटना को सामने लाया.

नीरव मोदी फरार
पंजाब नेशनल बैंक में 11 हजार करोड़ रुपए से ज्‍यादा के घोटाले का आरोपी नीरव मोदी एफआईआर दर्ज होने से पहले ही देश से फरार हो गया. शराब कारोबारी विजय माल्या की तरह किसी घोटाले के आरोपी के इस तरह फरार हो जाने को लेकर राजनीति गरमा गई है. कांग्रेस प्रवक्ता रणदपी सुरजेवाला ने अपने टि्वटर अकाउंट पर इससे संबंधित सवाल उठाते हुए कहा है कि क्या ललित मोदी और विजय माल्या की तरह नीरव मोदी को भी एफआईआर से पहले सूचना दे दी गई थी. इस बारे में कांग्रेस प्रेस कॉन्फ्रेंस करेगी. बता दें कि आरोपी नीरव मोदी के घर और दफ्तरों पर प्रवर्तन निदेशालय छापेमारी कर रही है.

इससे पहले निदेशालय ने मोदी और अन्‍य आरोपियों के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया था. पंजाब नेशनल बैंक में 11 हजार करोड़ रुपए से ज्‍यादा के घोटाले में आरोपी नीरव मोदी के घर और दफ्तरों पर प्रवर्तन निदेशालय छापेमारी कर रही है. इससे पहले निदेशालय ने मोदी और अन्‍य आरोपियों के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया था.