नई दिल्ली. यूपी के उन्नाव और जम्मू-कश्मीर के कठुआ में हुए गैंगरेप के खिलाफ कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी गुरुवार-शुक्रवार की दरमियानी रात को मिडनाइट कैंडल मार्च का आह्वान किया. इस मार्च में राहुल गांधी के साथ उनकी बहन प्रियंका गांधी भी शामिल हुई. प्रियंका के वहां पहुंचने से पहले तक किसी को जानकारी नहीं थी कि वह भी इसमें शामिल हो सकती हैं. ऐसे में उन्हें देखकर फोटो खिंचाने और उनसे मिलने को लेकर धक्का-मुक्की होने लगी.

राहुल गांधी गुरुवार की रात कैंडल मार्च निकालने का आह्वान किया. इसके लिए मानसिंह रोड पर कांग्रेस के कार्यकर्ता जुटने लगे. वहीं, कठुआ और उन्नाव मामले से मर्माहत लोग भी इंडिया गेट के सामने फर्स्ट सर्किल में जुट गए. वे हत्यारों को फांसी देने की मांग कर रहे थे. इसी दौरान मानसिंह रोड पर राहुल गांधी के साथ प्रियंका गांधी भी पहुंच गईं. देखते-देखते वहां हजारों की भड़ी जुट गई.

भीड़ ने की धक्का-मुक्की
प्रियंका और राहुल मानसिंह रोड से इंडिया गेट की तरफ बढ़े तो भीड़ भी उनके साथ चलने लगी. इस दौरान प्रियंका से मिलने, सेल्फी लेने और फोटो खिंचाने वालों ने उनके साथ धक्का-मुक्की की. प्रियंका के सुरक्षाकर्मियों ने उन्हें हटाने की कोशिश की, लेकिन लोग बार-बार उनके पास आ जा रहे थे. इस दौरान महिला कांग्रेस, युवा कांग्रेस और राष्ट्रीय छात्र संगठन से जुड़े लोग भी प्रियंका के साथ थे.
 Priyanka Gandhi midnight candle march india gate over kathua and unnao gangrape

जमीन पर लोगों को बैठा प्रियंका ने सिखाया अनुशासन
भीड़ की धक्मा-मुक्की को देख प्रियंका गांधी इंडिया गेट के सेकंड सर्किल के पास रुक गईं. अपने साथ चल रही महिला कांग्रेस और यूथ कांग्रेस की कार्यकर्ताओं को उन्होंने वहीं जमीन पर बैठा दिया. इसके बाद वह लोगों को अनुशासन की नसीहत देने लगीं. उन्होंने लोगों को दूर से बिना धक्का-मुक्की दिए चलने को कहा. साथ ही किसी तरह की नारेबाजी करने से इनकार किया. उन्होंने कहा कि हम यहां शांतिपूर्ण मार्च में आए हैं. किसी तरह के जिंदाबाद-मुर्दाबाद के नारे नहीं लगने चाहिए. उन्होंने कहा कि जिसे धक्मा-मुक्की करनी है वे यहां से चले जाएं.

पसीने से तरबतर हुईं प्रियंका
इंडिया गेट पर भी प्रियंका के साथ जुटी रही भीड़ जुटी रही. इस दौरान पसीने-पसीने हुई प्रियंका ने कैंडल जलाया. इस बीच भी वहां भारी संख्या में भीड़ जुटी रही. वहां काफी देर रहने के बाद वह लौटीं. इस दौरान उनके साथ उनके पति रॉबर्ट वाड्रा भी आ गए. राहुल गांधी इस बीच वापस अपनी गाड़ी में पहुंच गए तो प्रियंका भी सुरक्षाकर्मी की मौजूदगी में वहां पहुंच गई. कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह भी वहां मौजूद रहें.