नई दिल्ली: कठुआ और उन्नाव गैंगरेप के खिलाफ कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गुरुवार रात इंडिया गेट पर कैंडल मार्च निकाल रहे हैं. रात 12 बजे राहुल के साथ कांग्रेस नेता और कार्यकर्ता भी पहुंचे. राहुल के साथ अशोक गहलोत, गुलाम नबी आजाद सहित कई नेता-कार्यकर्ता शामिल हुए. इसके अलावा प्रियंका वाड्रा भी यहां पहुंचीं. इन दोनों मामलों में बीजेपी की खूब किरकिरी हो रही है. अब राहुल ने कैंडल मार्च निकालकर बीजेपी की मुश्किलों में और इजाफा कर दिया. इन दोनों मामलों में पुलिस और नेताओं की भूमिका पर सवाल उठ रहे हैं.

इस दोनों मुद्दे पर राहुल लगातार बीजेपी पर हमलावर रहे हैं. उन्होंने कठुआ में मासूम बच्ची से गैंगरेप को लेकर अपना गुस्सा जाहिर किया है. कैंडल मार्च के दौरान दूसरे कांग्रेस नेता भी उनके साथ रहेंगे. इसे लेकर राहुल ने ट्वीट भी किया है. राहुल ने लिखा – लाखों भारतीयों की तरह मेरे दिल को भी चोट पहुंची है. भारत में महिलाओं के साथ इस तरह का बर्ताव जारी नहीं रह सकता. आज रात इंडिया गेट पर मेरे साथ शांत, मौन, कैंडल लाइट मार्च में शामिल होइए.

कठुआ गैंगरेप: मासूम आसिफा को इंसाफ के लिए पूरे देश से उठी आवाज, दर्दनाक है दास्तां

कठुआ गैंगरेप केस में आठ साल की मासूम बच्ची को इंसाफ देने की आवाज पूरे देश से उठ रही है. बॉलीवुड हस्तियों से लेकर आम आदमी तक को इस घटना ने झकझोर कर रख दिया है. बॉलीवुड के कलाकारों ने इस पर अपना गुस्सा जाहिर करते हुए मासूम को इंसाफ देने की मांग की है. वहीं सियासतदानों ने भी इस पर अपना दुख जाहिर किया है. बीजेपी और केंद्र सरकार की तरफ से मंत्री वीके सिंह ने अपना दर्द साझा किया. वहीं, जम्मू कश्मीर की सीएम महबूबा मुफ्ती ने कहा कि दोषियों की किसी हाल में नहीं बख्शा जाएगा.

उन्नाव गैंगरेप: हाई कोर्ट में योगी सरकार ने कहा- विधायक के खिलाफ नहीं हैं सबूत

उन्नाव गैंगरेप: हाई कोर्ट में योगी सरकार ने कहा- विधायक के खिलाफ नहीं हैं सबूत

वहीं, उन्नाव गैंगरेप में योगी सरकार और बीजेपी निशाने पर है. इसे लेकर पुलिस और सरकार की भूमिका पर हर तरफ से सवाल उठ रहे हैं. यहां तक कि इलाहाबाद हाई कोर्ट को भी स्वत संज्ञान लेकर यूपी सरकार से तीखे सवाल पूछने पड़े हैं. आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर एफआईआर भी दर्ज हो गई लेकिन गिरफ्तारी नहीं हुई. सरकार ने कोर्ट में साफ कह दिया विधायक के खिलाफ पर्याप्त सबूत नहीं हैं. कोर्ट का फैसला शुक्रवार को आएगा.