कोलकाता. रामकृष्ण मठ एवं मिशन के प्रमुख स्वामी आत्मास्थानंद महाराज का 99 वर्ष की आयु में निधन हो गया. स्वामी आत्मास्थानंद महाराज जी का फरवरी 2015 से ही आयु संबंधी बीमारियों का इलाज चल रहा था. स्वामी आत्मास्थानंद महाराज ने रविवार शाम लंबी बीमारी के बाद उन्होंने एक अस्पताल में अंतिम सांस ली.

स्वामी आत्मास्थानंद महाराज के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुख जाहिर किया है. पीएम मोदी ने इसे व्यक्तिगत क्षति बताया है. पीएम मोदी ने ट्विट कर के लिखा उनके पास अपार ज्ञान का भंडार था. जब भी मै कोलकाता स्थित रामकृष्ण मिशनसेवा प्रतिष्ठान में जाता तो उनसे जरूर मिलता.

बता दें कि रामकृष्ण मठ और रामकृष्ण मिशन, बेलूर मठ ने एक बयान में कहा कि बेहतर इलाज के बाद भी उनकी स्थिति पिछले कुछ सालों में गिरती गयी तथा उनका रामकृष्ण मिशन सेवा प्रतिष्ठान अस्पताल में शाम में साढे पांच बजे निधन हो गया. वहीं बयान में कहा गया है कि उनका अंतिम संस्कार सोमवार रात 9.30 बजे बेलूर मठ में किया जाएगा और बेलूर मठ के द्वार आज रात तथा कल उनके अंतिम संस्कार पूरा होने तक खुले रहेंगे.

पीएम मोदी राजनीति में आने से पहले एक बार संन्यासी बनने की इच्छा लेकर बेलूर मठ गए थे. लेकिन उस वक्त उनके अनुरोध को स्वीकार नहीं किया था और कहा गया था कि उनकी कहीं अन्य स्थान पर जरूरत है. बता दें स्वामी आत्मास्थानंद महाराज के निधन पर पश्चिम बंगाल के राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी और सीएम ममता बनर्जी ने शोक जताया है.