पटना| बिहार के अररिया संसदीय क्षेत्र से आरजेडी सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री मोहम्मद तसलीमुद्दीन का आज लंबी बीमारी के बाद चेन्नई के एक अस्पताल में निधन हो गया. अररिया जिले के जोकीहाट विधानसभा क्षेत्र से जेडीयू विधायक और तसलीमुद्दीन के पुत्र सरफराज अहमद ने चेन्नई से फोन पर बताया कि उनके पिता का निधन आज दोपहर चेन्नई स्थित एक निजी अस्पताल में हो गया.

लोकसभा कमेटी की एक बैठक में भाग लेने गए तसलीमुद्दीन को सांस में तकलीफ होने पर उन्हें गत 24 अगस्त को चेन्नई के अस्पताल में भर्ती कराया गया था. 74 वर्षीय तसलीमुद्दीन अपने पीछे सरफराज अहमद सहित तीन पुत्र, दो पुत्री और एक पत्नी छोड़ गए हैं.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने तसलीमुद्दीन के निधन पर गहरी शोक संवेदना व्यक्त की. नीतीश ने अपने शोक संदेश में कहा है कि सांसद मोहम्मद तसलीमुद्दीन एक प्रख्यात राजनेता एवं प्रसिद्ध समाजसेवी थे. उनके निधन से न केवल सामाजिक बल्कि राजनीति के क्षेत्र में अपूरणीय क्षति हुई है.

मुख्यमंत्री ने दिवंगत आत्मा की चिर शान्ति तथा उनके परिजनों, अनुयायियों एवं प्रशंसकों को दुःख की इस घड़ी में धैर्य धारण करने की शक्ति प्रदान करने की ईश्वर से प्रार्थना की है. मुख्यमंत्री ने सरफराज से फोन पर बात भी की.

नीतीश ने कहा कि राज्य सरकार सांसद मोहम्मद तसलीमुद्दीन के पार्थिव शरीर को चेन्नई से पटना लायेगी और राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया जायेगा. सरफराज ने आगामी 19 को अपने पैतृक गांव अररिया जिला के जोकीहाट प्रखंड स्थित सिसौना गांव में अंतिम संस्कार किए जाने की संभावना जतायी है.

आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद, उनकी पत्नी एवं पूर्व मुख्यमंत्री राबडी देवी, बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव और पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप ने तसलीमुद्दीन के गहरा शोक व्यक्त करते हुए उनके निधन को अपनी पार्टी के लिए अपूरणीय क्षति बताया.

बिहार के सीमांचल के एक कद्दावर और अपनी बेबाकी के लिए जाने जाने वाले तसलीमुद्दीन एच डी देवगौडा के प्रधानमंत्रित्व काल में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री बनाए गए थे. बाद में उन पर आरोप लगने पर उन्होंने इस्तीफा दे दिया था. तसलीमुद्दीन आठ बार विधायक और पांच बार सांसद रहे.