त्रिपुरा: त्रिपुरा में जन्मी बच्ची रूना बेगम जो अपने ‘बड़े सिर’ को लेकर दुनिया भर में सुर्खियों में आई उसकी रविवार रात को मौत हो गई. बताया जा रहा है कि हाइड्रोसेफालस( दिमाग में पानी भरना) के कारण रूना की मौत हुई. इस बीमारी के कारण रूना के सिर में 94 सेमी. तक सूजन आ गई थी. रूना साढ़े पांच साल की थी और वह अगले महीने उसकी एक और सर्जरी होनी थी.

एक मजदूर परिवार में जन्मी बच्ची रूना को 16 अप्रैल 2013 को त्रिपुरा के अगरतला से गुड़गांव के फोर्टिस मेमोरियल रिसर्च इंस्टीट्यूट (एफएमआरआई) अस्पताल में इलाज के लिए लाया गया था. जहां बच्ची की आठ बार सर्जरी हो चुकी थी. फोर्टिज में रूना का साल 2013 से मुफ्त में इलाज चल रहा था.

डॉक्टर्स ने ये आश्वासन दिया था की रूना ठीक हो जाएगी और एक सामान्य बच्चे की तरह जीवन बिताएगी लेकिन ऐसा नहीं हो पाया. रूना की मां फातिमा खातून और मजदूर पिता अब्दुल रहमान का अपनी बच्ची को बड़ा होते देखने का सपना पूरा नहीं हो सका.

मां फातिमा खातून ने बताया कि रूना को सांस लेने में थोड़ी दिक्कत हो रही थी, लेकिन जब तक उसे इलाज के लिए किसी दूसरे अस्पताल में ले जाया जाता तब तक उसकी जान चली गई.’ एक महीने पहले ही रूना को अस्पताल में दिखाया गया था और अगले महीने उसकी सर्जरी होने वाली थी.

पिता रहमान ने कहा पहले रूना की हालत बहुत खराब थी लेकिन फिर पांच सर्जरी के बाद उसकी हालत में कुछ सुधार आया था. दूसरी विजिट में फिर से उसकी सर्जरी की गई थी और उसमें थोड़ा और सुधार देखने को मिला था. लेकिन, वो न कुछ खा पाती थी और न चल व बोल पाती थी. पर उसके सिर का आकार थोड़ा कम हो रहा था.