जोधपुरः काले हिरण के शिकार मामले में जेल भेजे गए बॉलीवुड अभिनेता सलमान खान की जमानत याचिका पर शुक्रवार को सेशन कोर्ट में बहस पूरी हो गई, लेकिन अदालत शनिवार को इस बारे में अपना फैसला सुनाएगी. इस कारण आज की रात भी सलमान को जेल में ही बितानी होगी. शुक्रवार सुबह करीब 11 बजे अदालत में सलमान की सजा को स्थगित करने और जमानत की याचिका पर बहस हुई. सलमान के वकीलों ने अदालत में अपना पक्ष रखा, लेकिन सेशंस कोर्ट ने तुरंत फैसला देने से इनकार कर दिया. अभियोजन पक्ष विश्वोई समाज के वकील ने कहा कि शनिवार को अदालत खुलेगी. उन्होंने बताया कि अदालत ने इस पूरे मामले में सीजेएम कोर्ट से रिपोर्ट मांगी है. रिपोर्ट आने के बाद सेशंस कोर्ट फैसले करेगी.

जोधपुर की सेंट्रल जेल में कैद सलमान को सीजेएम कोर्ट ने गुरुवार को पांच साल की सजा सुनाई थी. सजा के ऐलान के साथ ही जेल भेजे गए सलमान को बीती रात जमीन पर सोना पड़ा. उन्हें कुछ कंबल दिए गए थे. सूत्रों ने यह भी बताया है रात को उन्होंने जेल में कुछ नहीं खाया. जेल के मेनू में पत्ते गोभी की सब्जी और रोटी थी, जो सलमान को पसंद नहीं आई.

इस बीच देशभर में सलमान के प्रशंसक उनकी रिहाई की दुआ कर रहे हैं. सलमान के वकील ने गुरुवार को कहा था कि सजा को निलंबित करने और जमानत के लिए सत्र अदालत में याचिका दायर की थी. गुरुवार को जोधपुर की एक अदालत ने दो काले हिरणों का अक्तूबर 1998 में शिकार करने मामले में सलमान को पांच साल की कैद की सजा सुनाई थी. अदालत ने सलमान पर 10,000 रुपये का जुर्माना भी लगाया था. अदालत ने उन्हें जोधपुर सेंट्रल जेल भेज दिया.

 

इस सलमान के वकील महेश बोरा ने कहा है कि उन्हें धमकी मिली है कि वह अपने मुवक्किल (सलमान) की अदालत में पैरवी न करें. उन्होंने कहा है कि उन्हें गुरुवार को एक एसएमएस और इंटरनेट कॉल आया कि वह जमानत पर बहस न करें. हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि उन्हें इससे कोई असर नहीं पड़ेगा. वह अदालत में अपने मुवक्किल की पैरवी करेंगे.

उधर सलमान के एक दूसरे वकील आनंद देसाई ने गुरुवार को मुंबई में कहा था कि हालांकि वह अदालत के फैसले का सम्मान करते हैं लेकिन यह चौंकाने वाला है क्योंकि सलमान को पिछले मामलों में बरी कर दिया गया था, जिनमें इसी तरह के साक्ष्य थे. साथ ही, मौजूदा मामले में अदालत ने सभी पांच सह-आरोपियों को बरी कर दिया है. अदालत ने इस मामले में उनके सहयोगियों सैफ अली खान, सोनाली बेन्द्रे, तब्बू और नीलम और एक स्थानीय निवासी दुश्यंत सिंह को संदेह का लाभ देते हुए बरी कर दिया. ये सभी फैसले के तुरंत बाद मुंबई के लिए रवाना हो गए.

सलमान बने कैदी नंबर 106
फैसला सुनाते वक्त सलमान की बहनें अलवीरा और अर्पिता भी यहां मौजूद थीं और फैसला सुनते ही रो पड़े. सलमान भी मायूस हो गए और अपनी बहनों को गले लगा लिया. इसके बाद पुलिस ने उन्हें तुरंत हिरासत में ले लिया और जोधपुर जेल ले गई. यहां सलमान का मेडिकल कराया गया. उन्हें बैरक नंबर 2 में कड़ी सुरक्षा में रखा गया है. सलमान यहां कैदी नंबर 106 बने हैं. यहां उन्हें सामान्य कैदी की तरह रहना होगा और कोई वीआईपी ट्रीटमेंट नहीं मिलेगा.

बोलेरो से ले जाया गया अदालत
सलमान खान (52) को अदालत परिसर से पुलिस की एक बोलेरो (एसयूवी) से जोधपुर सेंट्रल जेल ले जाया गया. सलमान को चौथी बार जोधपुर जेल ले जाया गया है. इसी जेल में कथावाचक आसाराम भी कैद है जो बलात्कार के मामले में आरोपी है. जेल सूत्रों ने बताया कि सलमान को बैरक नंबर दो में भारी सुरक्षा के बीच रखा गया है.