चेन्नई। कुडनाकुलम परमाणु विद्युत परियोजना (केएनपीपी) की दूसरी इकाई को शनिवार सुबह दक्षिणी ग्रिड से जोड़ दिया गया। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। जल और वाष्प लीकेज के चलते इकाई को इस महीने की शुरुआत में बंद किया गया था।

केएनपीपी के एक अधिकारी ने इस मामले में और अधिक जानकारी देते हुए बताया कि शनिवार सुबह 7.57 बजे दूसरी इकाई को ग्रिड से जोड़ दिया गया और दिन में इसने 500 मेगावाट के स्तर को छुआ।

भारत के परमाणु विद्युत संयंत्र संचालक न्यूक्लियर पावर कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (एनपीसीआईएल) के पास केएनपीपी में 1,000 मेगावाट के दो परमाणु विद्युत संयंत्र हैं, जिन्हें रूस की मदद से बनाया गया है।

एनपीसीआईएल ने इस मामले में कहा था कि दूसरी इकाई के 11 मई से फिर से काम करने की संभावना है। वार्षिक मरम्मत और ईंधन भरने के लिए पहली इकाई को 13 अप्रैल को बंद किया गया था। इस प्रक्रिया में दो महीने का वक्त लगता है। हर साल रिएक्टर की 54 एसेंबलियों को बदल दिया जाएगा। पहली इकाई को ईंधन प्रदान करने का यह दूसरा चक्र है।