लखनऊ. उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले में बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर और उनके भाइयों द्वारा 18 साल की युवती के साथ कथित रेप और पीड़िता के पिता की हिरासत में मौत के प्रकरण की जांच के लिए विशेष जांच दल (एसआईटी) का गठन किया गया है. अपर पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) आनंद कुमार ने आज यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘प्रकरण से जुड़े सभी पहलुओं की जांच एसआईटी करेगी.’

वहीं, बलात्कार के आरोपी भाजपा विधायक के भाई अतुल सिंह सेंगर को आज सुबह उन्नाव से गिरफ्तार किया गया. हालांकि, भाजपा विधायक ने आरोपों से इंकार करते हुए इसे विरोधियों की साजिश बताया.

अपर पुलिस महानिदेशक कुमार का कहना है कि इस प्रकरण में अभी तक किसी को क्लीन चिट नहीं दी गयी है. पीड़िता के पिता की सोमवार को उन्नाव में न्यायिक हिरासत में मौत हो गई थी. पीड़िता का आरोप है कि विधायक के इशारे पर उसके पिता की जेल में हत्या की गयी है. कुमार ने बताया कि एसआईटी का नेतृत्व अपर पुलिस महानिदेशक (लखनऊ जोन) करेंगे.

उन्होंने कहा कि पुलिस अधीक्षक (अपराध शाखा) एसआईटी के सदस्य होंगे. एसआईटी मामले के विविध पहलुओं की जांच करेगी, जिसके बाद दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. उन्नाव के मुख्य चिकित्साधिकारी एस. पी. चौधरी ने बताया कि पीड़िता के पिता की मौत संभवत: सदमे और सेप्टीसीमिया की वजह से हुई.

इस सवाल पर कि क्या मृतक को यातना दिया जाना मौत का कारण है, कुमार ने कहा कि यह सब कैसे हुआ और कहां हुआ, यह न्यायिक जांच का विषय है. पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि राज्य पुलिस प्रमुख के निर्देश पर अपराध शाखा ने अतुल को गिरफ्तार किया है. युवती का आरोप है कि भाजपा विधायक सेंगर और उनके भाइयों ने उसके साथ रेप किया. युवती ने इसे लेकर हाल ही में मुख्यमंत्री आवास के सामने आत्मदाह का प्रयास भी किया था.

उन्नाव की पुलिस अधीक्षक पुष्पांजलि देवी के मुताबिक लड़की के पिता को आठ अप्रैल को जिला जेल से अस्पताल ले जाया गया, जहां उनकी इलाज के दौरान कल मौत हो गई. युवती के पिता पिटाई के प्रकरण में चार अप्रैल को चार लोगों के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज किया गया था. पुलिस ने चारों सोनू, बउवा, विनीत और शैलू गिरफ्तार किए जा चुके हैं.